भारत त्यौहारों की एक पवित्र और आकर्षक भूमि है भारत मे प्रत्येक महीने के प्रत्येक दिन कोई ना कोई किसी ना किसी धर्म का त्योहार मनाया जाता है। भारत को त्यौहारों की भूमि भी कहा जाता है। भारत में एक से बढ़कर एक उत्सव मनाए जाते हैं। यहां विभिन्न जातियों, विभिन्न संस्कृतियों एवं धर्मों के त्योहार एक साथ मनाए जाते हैं जिसमें हर कोई सम्मिलित होता है। भारत का हर त्योहार मनुष्यों को जीवन की नई शिक्षा देता है। जीवन जीने की कला यहां के त्यौहारों से मिलती है। भारत का प्रत्येक त्योहार अपने आप में ही बेहद खास है। यह मानवीय निहितार्थ को चिन्ह्ति करता है। भारत के इन्हीं रगं बिरगें त्याहौरों को लिए अगस्त का महीना शुरु होता है। जो मॉनसून की ताजगी लिए शुरु होता है। चारों और मिट्टी की धीमी-धीमी खुशबू और बारिश की बूंदो के बीच इस महीने के त्योहारों का अलग ही छंटा देखने को मिलती है। अगस्त का महीना उत्सवों का महीना होता है जिसमें राष्ट्रीय से लेकर समाजिक त्योहार तक मनाए जाते हैं।
स्वतंत्रता दिवस

अगस्त के महीने की शुरुआत ही एक ऐसे अनुपम त्योहार के साथ होती है जिसमें प्रत्येक जाति, प्रत्येक धर्म के लोगों को स्वंय पर गर्व महसूस होता है। लगभग 200 सालों तक ब्रिटिश शासन के राज से मध्यरात्रि के समय जब संपूर्ण विश्व गहरी नींद में सो रहा था उस समय पूरा भारत एक नई सुबह के लिए जागृत था। भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु ने रात्रि 12 बजे भारत की स्वतंत्रता का ऐलान किया था। भारत के तिरंगे को फहराकर उन सभी शहिदों की शहाद्दत को सम्मान दिया गया था जिन्होंने भारत की स्वतंत्रता के लिए अपने प्राण न्यौछावर कर दिए थे। प्रत्येक वर्ष अगस्त महीने की 15 तारीख को भारत अपना स्वतंत्रता दिवस हर्षोल्लास एवं जोश के साथ मनाता है। अगस्त का महीना भारत को उसकी आजादी का एहसास करा उसे जश्न मनाने का अवसर प्रदान करता है।
रक्षा बंधन

अगस्त का महीना दोस्ती, भाईचारे और प्यार का प्रतीक है। अगस्त के महीनें में दोस्ती एवं भाई-बहन के प्यार से जुड़े त्योहार मनाए जाते हैं। अगस्त के पहले रविवार को पूरा देश मित्रता दिवस यानि फ्रेंडशिप डे मनाकर अपने दोस्तों को उनकी दोस्ती के लिए अभार प्रकट करता है। दोस्ती मनुष्यों के लिए बहुत जरुरी है। एक दोस्त ही होता है जो हर पल साथ निभाता है। इस दोस्ती को समर्पित मित्रता दिवस अगस्त के महीने की पहचान है। वहीं दूसरी ओर अगस्त की महीना भाई-बहन के अनमोल प्यार का भी प्रतिक है। अगस्त के महीने में  रक्षाबंधन के रुप में भाई अपनी बहन की रक्षा के लिए संकल्प लेते हैं और बहन अपने भाई की मंगलकामना के लिए उन्हें राखी बांधती हैं। सादगीपूर्ण यह त्यौहार भारत वर्ष में प्रेम की नई मिसाल पेश करता है।

अगस्त का महीना धार्मिक महीना होता है। यह पूरा महीना सावन के पवित्र महीने के रुप में मान्य होता है। भगवान शिव का आशीर्वाद इस पूरे महीने भक्तों को मिलता है। आस्था एवं विश्वास के प्रतिक के रुप में सावन माह में कई त्योहार एवं व्रत-उपासनी भगवान शिव को अराध्य मानकर किए जाते हैं। अगस्त के ही महीने में हरियाली तीज जो महिलाएं एवं कुंवारी लड़कियां सुखी गृहस्थी जीवन एवं जीवनसाथी के लिए करती हैं। तीज मानसून में मनाया जाने वाला त्यौहार है, जो भगवान शिव और देवी पार्वती के पुनर्मिलन का प्रतीक है। इस त्यौहार के दौरान, महिलाएं रंगीन कपड़े पहनती हैं और अपने पतियों के कल्याण के लिए उपवास करती हैं। अगस्त महीने में ही चंद्रमा-पखवाड़े के पांचवें दिन नागपंचमी का त्योहार मनाया जाता है। जो भगवान शिव के गले में लिपटे सांपो को समर्पित है। इस दिन नाग देवता की पूजा की जाती है।
भगवान शिव

अगस्त महीने में ही ओणम का त्योहार न केवल केरल में बल्कि दुनिया भर में मल्यालयी समुदायों द्वारा मनाया जाता है। इस दस दिवसीय पर्व की शुरुआत 15 अगस्त से होगी, जिसमें प्रत्येक दिन कोई ना कोई विशेष रुप से रीति-रिवाज किए जाएगें। ओणम का त्योहार दक्षिण भारतिय परंपरा का प्रमुख त्योहार है। हिन्दू समुदायो के त्यौहारों के साथ ही दुनिया भर में मुसलमानों द्वारा 21 अगस्त को बकरी ईद मनाई जाएगी। जो अल्लाह के प्रति मुस्लिम समुदायों द्वारा कुर्बानी का प्रतिक हैं।

अगस्त के महीने में अन्य महत्वपूर्ण दिन भारत छोड़ो आंदोलन, कामिका एकादशी है। अगस्त के महीने में ही और राजीव गांधी जंयती मनाई जाती है जोकि 20 अगस्त को है। अगस्त माह में भव्य नौका दौड़ यानि नेहरु ट्रॉफी बोट रेस का आयोजन 11 अगस्त को किया जाएगा।
 To read this article in English Click here

Forthcoming Festivals

Download our free mobile app

Get festival updates on your mobile & Explore and enjoy the panorama of Festivals/Fairs/Melas celebrated in India.