भारत में हिन्दू धर्म के बाद सबसे ज्यादा इस्लाम का अनुसरण करने वाले लोग रहते हैं। ईस्लाम का अनुसऱण करने वाले लोग मुस्लिम कहलाते हैं। ईस्लाम आज पूरे विश्वभर में व्यापक रुप से फैला हुआ है। ईस्लाम धर्म के लोग पूरे विश्व में मौजूद है। इस्लाम के अनुसार अल्लाह (ईश्वर) ने धरती पर मनुष्य के मार्गदर्शन के लिये समय समय पर किसी व्यक्ति विशेष को अपना दूत बनाया। यह दूत भी मनुष्य जाति में से ही होते थे और लोगों को ईश्वर की ओर बुलाते थे, इन व्यक्तियों को इस्लाम में नबी कहते हैं। जिन नबियों को ईश्वर ने स्वयं शास्त्र या धर्म पुस्तकें प्रदान कीं उन्हें रसूल कहते हैं। इस्लाम के जनक वैसे तो पैंगबर मुहम्मद है। किन्तु ईस्लाम का प्रचार-प्रसार करने का श्रेय इब्राहिम को जाता है। इब्राहिम का जन्म बेबिबुन साम्राज्य में एक मुर्तिकार अजर के घर में हुआ था जो मुर्तियों का निर्माण करते हैं। इब्राहिम को बहुत कम उम्र में ही यह एहसास हुआ कि लोग मूर्तियों को केवल एक खिलाने की वस्तु समझ उसका उपयोग करते हैं। इब्राहिम को इस्लाम में अब्राहम भी कहा जाता है। इब्राहिम ने सदा एक ईश्वर अर्थात एकेश्वरवादी का अनुसरण करने के लिए लोगों को प्रेरित किया। जिसके कारण उन्हें काफी तकलीफों और यातनाओं का भी सामना करना पड़ा। जिस युग में लोग मूर्ति पूजा पर विश्वास रखते थे उन्हें अपना भगवान मान कर उनका अनुसरण करते थे। उसी समय इब्राहिम ने लोगों को बताया कि ईश्वर एक है वो बेजान मूर्तियों में नहीं है। इब्राहिम ने अल्लाह का अनुसरण और उनका आदर्श मानते हुए अपना घर-परिवार देश सब कुछ छोड़ दिया था। यही कारण है कि भगवान ने उसे "खलील" कहा, "प्रिय दास"। इब्राहिम (अब्राहम) से पहले कोई भविष्यद्वक्ता इतना उच्च नाम से सम्मानित नहीं किया गया था। इब्राहिम भविष्यवक्ता ईसाई धर्म और इस्लाम दोनों में एक उच्च स्थान रखता है।
इब्राहिम

पैगंबर इब्राहिम का इतिहास

इब्राहिम एक भविष्यवक्ता थे। बचपन में उन्होंने अपने पिता से मूर्तिपूजा के बारे में समझना चाहा लेकिन उन्हें उसका सही उत्तर नहीं मिला। उनके पिता अजर एक मूर्तिपूजक थे। कुरान में, यह वर्णित किया गया है कि उसे ज्ञान दिया गया था जो किसी और के लिए खुला नहीं था, इसलिए उसने "सही" तरीके से जाने को कहा। लेकिन अजर ने इस अपील को खारिज कर दिया, क्योंकि बेटे की ऐसी स्थिति कई वर्षों तक स्थापित परंपराओं और मानदंडों के साथ मेल नहीं खाती थी। तब भविष्यवक्ता इब्राहिम ने लोगों को संबोधित किया। उन्होंने दावा किया कि मूर्तियां दुश्मन हैं, भगवान को छोड़कर, जिन्होंने मनुष्य बनाया और उसे सही रास्ते पर ले जाता है। इब्राहिम ने अपनी बात को साबित करते हुए आसमान में सितारों और चंद्रमा की तरफ देखते हुए कहा कि यह स्थिर है। यदि यह भगवान है तो यह गायब क्यों हो जाते हैं। एक निश्चित समय पर दिखाई क्यों देते हैं। उन्होंने यही बात सूर्य को लकर भी कही कि दिन में ही क्यों दिखते हैं यदि यह भगवान है तो हमेशा क्यों नहीं दिखाई देते। भविष्यवक्ता ने साबित किया कि भगवान मूर्तियों में नहीं है, लेकिन एक ऐसा व्यक्ति है जिसने दुनिया और लोगों को बनाया है। भगवान को देखने के लिए मूर्तियों की आवश्यकता नहीं है। लेकिन लोगों ने, उनके पिता की तरह, इब्राहिम के आह्वान को खारिज कर दिया, लोगों ने इब्राहिम की इस बात का मज़ाक उड़ाया।

मूर्तियों का विनाश

जब इब्राहिम ने देखा कि लोग उनकी बात को नहीं मान रहे हैं। मूर्तियों को ही भगवान मानकर पूजा कर रहें हैं तो उन्होंने मूर्तियों को नष्ट करने का विचार किया। एक दिन जब धार्मिक अवकाश था और सभी लोगों शहर से बाहर गए थे तो इब्राहिम ने मंदिर में प्रवेश किया और मूर्तियों को तोड़ डाला। उन्होंने सभी मूर्तियों को नष्ट कर दिया। जब पुजारियों और बाकी लोगों ने इब्राहिम से मूर्तियों को तोड़े जाने का काऱण पूछा तो उन्होने कहा कि जो मूर्ति के रुप में भगवान है वो स्वंय को नहीं बचा पाया तो वो हमारी रक्षा कैसे करेगा। यह मूर्ति पूजा ढोंग है। पुजारी और सभी लोग बात सुनकर क्रोध में आ गए और उन्होंने इब्राहिम को कड़ी सजा सुना दी। उन्होंने इब्राहिम के हाथ, पैर बांध कर आग में जिंदा जलाने का विचार किया। लेकिन इब्राहिम इसेस तनिक भी भयभीत नहीं हुए। उन्हें विश्वास था कि ईश्वर उन्हें बचा लेगें। जब इब्राहिम को आग में फेंका गया तो सबने एक चमत्कार देखा, इब्राहिम के हाथ में लगी बेड़ियां जल गई और इब्राहिम सही सलामत आग में से बाहर आ गए क्योंकि उन्हें महान भविष्यद्वक्ताओं में से एक का पिता बनना था। यही कारण है कि आग ने इब्राहिम को नुकसान नहीं पहुंचाया। भगवान के आदेश के स्वरुप इब्राहिम अपनी पत्नी सारा के साथ मिस्त्र चले गए। वहां उन्होंने एक बेटे को जन्म दिया। जो बाद में इस्लाम का प्रमुख इस्माइल बना। जब वह अल्लाह की इच्छा से बहुत छोटा था तब इब्राहिम ने परिवार को हिजाज भेज दिया।

इब्राहिम की कुर्बानी

इब्राहिम ने एक दिन सपना देखा कि अल्लाह उसे अपने बेटे का त्याग करने को कह रहे हैं। उन्होंने देखा कि अल्लाह उनसे उनके बेटे की कुर्बानी मांग रहें हैं चूंकि इब्राहिम को बेटा बहुत देर से हुआ और उन्हें उससे बहुत लगाव था। इस्लाम के मुताबिक इब्राहिम की परीक्षा लेने के उद्देश्य से अपनी सबसे प्रिय चीज की कुर्बानी देने का हुक्म दिया था हजरत इब्राहिम को लगा कि उन्हें सबसे प्रिय तो उनका बेटा है इसलिए उन्होंने अपने बेटे की ही बलि देना स्वीकार किया। हजरत इब्राहिम को लगा कि कुर्बानी देते समय उनकी भावनाएं आड़े आ सकती हैं, इसलिए उन्होंने अपनी आंखों पर पट्टी बांध ली थी। जब अपना काम पूरा करने के बाद पट्टी हटाई तो उन्होंने अपने पुत्र को अपने सामने जिन्दाप खड़ा हुआ देखा. बेदी पर कटा हुआ जानवर पड़ा हुआ था, तभी से इस मौके पर कुर्बानी देने की प्रथा चली आ रही है। ईद उल अज़हा को सुन्नते इब्राहीम भी कहते है।

मक्का मस्जिद का निर्माण

एक मंदिर का निर्माण भगवान की भक्ति करने का सबसे अच्छा रूप है। इब्राहिम और उनके बेटे ने अल्लाह से प्रार्थना की और उन्हें पूजा के संस्कार दिखाने के लिए कहा। उन्होंने यह भी पूछा कि उनके पुत्रों के वंशजों में ऐसे भविष्यद्वक्ताओं होंगे जो भगवान का सम्मान करेंगे और पूजा करेंगे। इब्राहिम द्वारा मक्का में मस्जिद का निर्माण कराया गया। जो यह विश्वास बन गया कि सदियों के अंत तक एक भगवान की पूजा समाप्त नहीं होगी। इस्लाम में भविष्यवक्ता इब्राहिम एक प्रमुख व्यक्ति बन गया। उनकी कॉल कई लोगों द्वारा सुनाई गई थी। हर साल, दुनिया भर से मुसलमानों ने मक्का में तीर्थयात्रा के लिए इकट्ठा होना शुरू किया, जिसे हज कहा जाता है। वह इब्राहिम और उसके परिवार के जीवन की घटनाओं का प्रतीक है। तीर्थयात्रियों ने काबा को बाईपास करने के बाद, वे ज़म-ज़म के स्रोत से पानी पीते हैं। दसवें दिन, पत्थरों का बलिदान और फेंक दिया जाता है। महान भविष्यद्वक्ता की कब्र शहर में हैहेब्रोन। यह सबसे सम्मानित जगह है इब्राहिम ने लोगों को एकेश्वरवाद सिखाया। वह खानिफ थे, जिन्हें पूरी धरती पर हनीफिज्म के पुनरुत्थान के लिए अल्लाह ने बुलाया था।

To read this article in English Click here

Forthcoming Festivals

Download our free mobile app

Get festival updates on your mobile & Explore and enjoy the panorama of Festivals/Fairs/Melas celebrated in India.