भारतवर्ष में हिन्दू धर्म के अलावा जैन धर्म की काफी मान्यता है। जैन धर्म भारत के सबसे प्राचीनतन धर्मों में से एक हैं। जैन धर्म में 24 तीर्थकर हुए हैं जिनका जैन धर्म के अनुयायी अनुसरण करते हैं। जैन धर्म की शुरुआत करने का श्रेय ऋषभदेव के जाता है जिन्हें आदिनाथ भी कहा जाता है। ऋषभदेव जैन धर्म के संस्थापक है। इन्हीं के कारण जैन धर्म का संसार में विस्तार हो पाया है। ऋषभ देव को आदिनाथ के नाम से संबोधित किया जाता है जिसका अर्थ होता है। मूल भगवान। अर्थात जैन धर्म के भगवान ऋषभदेव हैं। अन्य सभी तीर्थकर ऋषभदेव से ही जुड़े हुए हैं। भगवान ऋषभदेव हुए इनका जन्म चैत्र कृष्ण नवमी में अयोध्या में हुआ था इनके पिता का नाम महाराज नाभिराय व माता का नाम महारानी मरूदेवी था। ऋषभ देव इक्ष्वाकू वंश से संबधित थे जिन्हें सूर्य का सदन कहा जाता है। ऋषभ की दो पत्नियां थी, सुनंदा और यसस्वाती जिसे नंद या सुमंगाला भी कहा जाता है। उनके पास सौ और बेटे दो बेटियां थीं उनका सबसे बड़ा बेटा, सुमनंगा से पैदा हुआ था, भारत था। भारत एक चक्रवर्ती (दुनिया का शासक) था, जिसने बाद में मोक्ष प्राप्त किया और एक सिद्धांत के रूप में पूजा की। जैन मान्यतानुसार भरत के नाम से ही भारतवर्ष का नाम भारत पड़ा है। जैन धर्म दुनिया का सबसे प्राचीन धर्म है। राजा जनक भी जिन परंपरा से ही थे और उनके गुरु अष्टावक्र भी जिन परंपरा से थे। भगवान राम पूर्वज नाभिराज के कुल में ऋषभदेव हुए। नाभि के कुल में ही इक्ष्वाकु हुए। ऋषभदेव जैन धर्म के प्रवर्तक और पहले तीर्थंकर हैं और भगवान राम का जन्म इक्ष्वाकु कुल में ही हुआ था।
आदिनाथ/ ऋषभदेव

ऋषभदेव का जन्म एवं जीवन

ऋषभदेव ने कई अवतार लिए हैं। कारवां नेता धन्ना के रूप में, उन्होंने भेंट की पेशकश की थी और अपनी सेवाओं को अस्थिर करने वालों और सभी को बढ़ा दिया था। डॉक्टर जीवनंद के रूप में उनके एक अन्य अवतार ने उदारतापूर्वक बीमार लोगों की देखभाल की थी। राजा वजनभ के रूप में उनके जन्म ने गरीब और उग्र लोगों की सेवा की थी। वाजपेन ने कई वर्षों तक शासक बनने के बाद सत्तारूढ़ होने के बाद दुनिया को छोड़ दिया। धार्मिक अध्ययन, तपस्या, सहिष्णुता और ध्यान सहित अभूतपूर्व आध्यात्मिक प्रथाओं के कारण, उन्होंने तीर्थंकर-नाम-और-गोत्र-कर्म अर्जित किया। उनकी भक्ति गतिविधियों के परिणामस्वरूप ऋषभदेव के रूप में उनका जन्म हुआ। जैन मान्यतानुसार ऋषभदेव का जन्म वर्तमान अवरोही चक्र के तीसरे आरा के आखिरी हिस्से में हुआ था। हिन्दू महीने के अनुसार यह अषाढ़ के कृष्णा पक्ष के चौथा गिन था। ऋषभदेव के पिता महाराज नाभि देव थे। महाराज नाभि ने सन्तान-प्राप्ति के लिये यज्ञ किया था। उनके यज्ञ से प्रसन्न होकर भगवान नारायण ने उन्हें वरदानदिया कि उनका पुत्र सौन्दर्य, ऐश्वर्य, शक्तिघन के समान होगा। , महाराज नाभि की महारानी मरुदेवी की गोद से ऋषभदेव का जन्म हुआ। जब ऋषभदेव गर्भ में थे तो उनकी माता ने चौदह (या सौलह) शुभ चीजों का सपना देखा था। उन्होंने देखा कि एक सुंदर सफेद बैल उनके मुँह में प्रवेश कर गया है। एक विशालकाय हाथी जिसके चार दाँत हैं, एक शेर, कमल पर बैठीं देवी लक्ष्मी, फूलों की माला, पूर्णिमा का चाँद, सुनहरा कलश, कमल के फूलों से भरा तालाब, दूध का समुद्र, देवताओं का अंतरिक्ष यान, जवाहरात का ढेर, धुआँरहित आग, लहराता झंडा और सूर्य था। ऋषभदेव जन्म के समय से ही उसके शरीर पर विष्णु के वज्रअंकुश आदि चिह्न विद्यमान थे। महाराज नाभि कुमार ऋषभदेव को राज्य देकर वन के लिये विदा हो गये। देवराज इन्द्र की पुत्री पुत्री जयन्ती का विवाह ऋषभदेव से हुआ। ऋषभदेव जी को पूरे सौ पुत्र हुए। इनमें सबसे ज्येष्ठ चक्रवर्ती भरत हुए। इन्हीं आर्य भरत के नाम पर यह देश भारतवर्ष कहा जाता है। शेष पुत्रों में नौ ब्रह्मर्षि हो गये और इक्यासी महातपस्वी हुए। राजा ऋषभदेव ने अपने अवतार लेने के रहस्य का उदघाटन करते हुए सब पुत्रों को आलस्यहीन होकर धर्म पूर्वक कार्य करने का उपदेश दिया तथा भरत की सेवा करने को कहा। । भरत का राज्याभिषेक करके ऋषभदेव वन की ओर चले गए और सन्यासियों के समान जीवन व्यतीत करने लगे। भगवान ऋषभदेव का अनुसरण करने वाले लोग भिक्षा लेने घर-घर जाते किन्तु भिक्षा में उन्हें आभूषण इत्यादि दिए जाते कोई भी उन्हें अन्न नहीं देता था जिसके कारण कई अनुयायियों ने अपना मठ स्थापित कर लिया। जैन मान्यता है कि पूर्णता प्राप्त करने से पूर्व तक तीर्थंकर मौन रहते हैं। जिसके कारण आदिनाथ को एक वर्ष तक भूखे रहना पड़ा। इसके बाद वे अपने पौत्र श्रेयांश के राज्य हस्तिनापुर पहुंचे। श्रेयांस ने उन्हें गन्ने का रस भेंट किया जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया। वह दिन आज भी 'अक्षय तृतीया' के नाम से प्रसिद्ध है। हस्तिनापुर में आज भी जैन धर्मावलंबी इस दिन गन्ने का रस पीकर अपना उपवास तोड़ते हैं। इस प्रकार, एक हजार वर्ष तक कठोर तप करके ऋषभनाथ को कैवल्य ज्ञान (भूत, भविष्य और वर्तमान का संपूर्ण ज्ञान) प्राप्त हुआ। वे जिनेन्द्र बन गए। पूर्णता प्राप्त करके उन्होंने अपना मौन व्रत तोड़ा और संपूर्ण आर्यखंड में लगभग 99 हजार वर्ष तक धर्म-विहार किया और लोगों को उनके कर्तव्य और जन्म-मृत्यु के बंधन से मुक्ति पाने के उपाय बताए। अपनी आयु के 14 दिन शेष रहने पर भगवान ऋषभनाथ हिमालय पर्वत के कैलाश शिखर पर समाधिलीन हो गए। वहीं माघ कृष्ण चतुर्दशी के दिन उन्होंने निर्वाण (मोक्ष) प्राप्त किया।

ऋषभदेव के अन्य नाम

ऋषभनाथ
रुषभ
ऋषभदेव
आदिनाथ
आदेश्वर
कैसरिया जी

भगवान ऋषभदेव से संबधित मंदिर

आदिश्वर मंदिर, रनकपुर, राजस्थान
आदिश्वर मंदिर, पलीतना गुजरात
आदिनाथ मंदिर, बिबरोद, रतलाम, मध्य प्रदेश
आदिनाथ मंदिर, नाहट चौक बिकानेर, राजस्थान
आदिनाथ मंदिर, वतमान, गुजरात
आदिनाथ मंदिर, खजुराहो, मध्य प्रदेश
आदिनाथ मंदिर, अयोध्या, उत्तर प्रदेश
आदिनाथ मंदिर, चांद खेदी कोटा के पास, राजस्थान
आदिनाथ औऱ ऋषभदेव मंदिर. उदयपुर, राजस्थान
आदिनाथ भगवान मंदिर, महरौली, दिल्ली

To read this article in English Click here

Forthcoming Festivals

Download our free mobile app

Get festival updates on your mobile & Explore and enjoy the panorama of Festivals/Fairs/Melas celebrated in India.