दिवाली जैसा रंगीन त्योहार हो और खाने पीने में कुछ खास ना हो तो ये कैसे हो सकता है। दिवाली की रंगोली जैसे रंगों वाली रसीली मिठाइयां इस दिन बनती हैं। मार्किट में तो इतनी वैराइटी होती है कि क्या खरीदें और क्या नहीं समझ ही नहीं आता। घर पर भी कई मिठाइयां बनती हैं। मिठाइयों के साथ अन्य नमकीन पकवान भी तैयार किये जाते हैं। चलिये आपको कुछ विशेष दिवाली पकवानों को बनाने की विधि बताते हैं।

Image result for diwali sweets

गुलाब जामुन

गुलाब जामुन का नाम सुनते ही मुंह में एक लजीज सा स्वाद आने लगता है। काले गुलाब जामुन पर नारियल का छिड़का हुआ बुरादा और साथ में मीठी से चाशनी। गुलाब जामुन ठंडा भी अच्छा लगता है और गर्म भी।

सामग्री

खोआ
पनीर
मैदा
कॉर्नफ्लावर/कॉर्नस्टार्च
चीनी
दूध
इलाईची पाउडर
घी

बनाने की विधि

खोआ और पनीर को अलग अलग कद्दुकस करके एक बाउल में डालकर मिला लें। मैदा, कॉर्नफ्लावर डालकर अच्छी तरह गूंद लें जबतक एक चिकनी लोई बन जाए। अब इसको लड्डू की तरह गोल कर लें।ध्यान रहे उनपर कोई दरार न हो। चीनी को पानी में उबाल कर चाश्नी बना लें।  फिर इसमें दूध डालें और जब मैल उपर तैरने लगे उसे कढ़छी से निकालकर फेंक दें। अब उसमें इलायची पावडर डालकर पकाएँ जब तक चाशनी हल्की सुनहरा हो जाए।
एक कढाई में आवश्यकतानुसार घी डालकर मध्यम आँच पर गरम करके उसमें खोआ के गोले डालें। कढ़ाई को आँच पर से उतार लें और धीरे धीरे घुमाए जबतक बॉल उपर तैरने लगे
कढ़ाई को फिर से आँच पर रखें और मध्यम आँच पर, हल्के से चलाते हुए, तबतक तलें जबतक वे सुनहरे होजाए। घी में से निकालकर चाशनी में डालें और लगभग पन्द्रह मिनटों तक सोखने दें। आपके स्वादिष्ट गुलाब जामुन तैयार हैं।


बेसन के लड्डू

सामग्री

मोटा बेसन का आटा
काजू
आलमंड/बादाम
घी
इलाइची का पावडर
शुगर सब्स्टि्टयूट सुकरोलोज़

बनाने की विधि

काजू और बदाम को दरदरा पीस लें। एक नॉन स्टिक कढ़ाई में घी गरम करके उसमें बेसन डालकर धीमी आँच पर भूनें जबतक हल्का सुनहरा हो जाए और महक आने लगे। इसे करीबन पन्द्रह से बीस मिनट लगेंगे। फिर उसमें इलाइची पाउडर, काजू और बदाम डालकर मिला लें और आँच पर से उतार लें। थोड़ा ठंडा होने दें। फिर उसमें शुगर सबस्टिट्युट डालकर अच्छी तरह मिला लें। अब इसे लड्डू की तरह गोल कर दें। ठंडा होने के बाद परोसें।


शकरपारे

सामग्री

मैदा
घी 
चीनी

बनाने की विधि

मैदे को एक बर्तन में छान लें. मैदे में घी डालें और हाथो की मदद से दोनों को अच्छे से मिला लें. अब पानी से आटे को पूरी के आटे से भी सख्त गूंथ लें. तैयार आटे को 20 मिनट के लिए ढक कर रख दें ताकि ये थोडा़ सैट हो जाए.
जब आटा सैट हो जाए तो इसे 2 भागों में बांट लें. दोनों से गोल लोईयां बना लें. एक लोई को लेकर चकले पर बेल लें. अब चाकू की मदद से इस पूरी में आधा सेंमी. की दूरी पर कट लगाते जाएं. अब दूसरी दिशा में भी इसी तरह कट लगा लें. दोनों तरफ़ काटने पर चौकोर शकरपारे तैयार हो जाएंगे. अब दूसरी लोई को भी इसी तरह बेल कर, काट कर चौकोर शकरपारे तैयार कर लें.
एक कढा़ई में घी गरम करें. इसमें जितने शकरपारे आसानी से डाल कर तले जा सकें डाल लें. इन्हें सारी तरफ़ से ब्राउन होने तक पलटते हुए तले और फिर तल कर एक प्लेट में निकाल लें. इन्हें धीमी और मीडियम आंच पर तलें. सारे शकरपारों को तल कर निकाल लें.


गाठिया 

गाठिया यूं तो गुजरात का मशहूर पकवान है, लेकिन अब ये देश भर में खाया जाता है। खासकर दिवाली में इसे एक दूसरे को गिफ्ट के तौर पर दिया जाता है.

सामग्री

बेसन
अजवायन
काली मिर्च पाउडर
तेल , नमक, पानी
खाने का सोडा

बनाने की विधि

एक बड़े मिश्रण के कटोरे में बेसन, काली मिर्च पाउडर, अजवायन, नमक और करीब 2 बड़े चम्मच तेल डालें.
सभी सामग्री को अच्छी तरह से मिलाएँ फिर उसमे आवश्यकता के अनुसार पानी डालें और उसे लचीले आटे जैसा गूंथ लें.
ध्यान रखे की पानी थोडा-थोडा करके डालें, एक साथ पूरा पानी न डालें. अब उस पर 1 बड़ा चम्मच तेल डालें औेर फिर से गुंथे जब तक वह टूटने न लगे. अब थोड़ा सा आटा लें तेल में डूबा लें फिर एक लकड़ी के पटरे पर रखकर हथेली से लम्बे और थोड़े मोटे गाठिया बना लें, पुरे आटे से इसी तरह गाठिया तैयार कर लें. तेल गर्म करें, हलके गर्म तेल में गाठिया को कुछ मिनटों तक तलें फिर गठिया को एक प्लेट में निकाल लें.गरमा गरम गठिया को हरी मिर्च के साथ परोंसे।


दही बड़ा

धुली उड़द की दाल
दही, नमक
हींग
काजू
किशमिश
भुना हुआ जीरा
लाल मिर्च पाउडर
रिफाइन्ड तेल

बनाने की विधि

उड़द को धोकर दो घंटे के लिये पानी में भिगो दें। दाल में से पानी निकाल दीजिये और हल्की सी दरदरी पीस लीजिये। दाल में एक चम्मच हींग घोलकर मिला दें। नमक मिलाकर अच्छी तरह दाल नरम होने तक मिला लीजिये।
अब एक कढ़ाई में तेल डालिये और गरम कीजिये। एक छोटी कटोरी लीजिये और उस पर एक साफ़ धुला हुआ कपड़ा ढककर पीछे की ओर से पकड़ लीजिये। कपड़े पर हाथ से थोड़ा-सा पानी लगाइये। अब उँगलियों के सहारे से थोड़ी-सी दाल निकालिये और कपड़े के ऊपर रखिये।
दाल के ऊपर बीच में 2 काजू के टुकड़े और एक किशमिश डालिये। अब किशमिश, काजू आदि को चारो ओर से दाल में दबा दीजिये। दही बड़े को उँगलियों से दबाकर चपटा और गोल कर लीजिये। हल्के हाथ से उसे कपड़े से हटाकर कड़ाई में तलने के लिये डालिये। 4 या 5 दही बड़े एक बार में तलिये। जब दही बड़े भूरे रंग के से हो जाएँ, तब उन्हें कड़ाई से निकालकर प्लेट में रख दीजिए। इसके बाद एक बरतन में एक लीटर साफ़ पानी लीजिये और हल्का गरम कर लीजिए। इसमें आधा छोटी चम्मच नमक मिला दीजिये। अब सारे दही बड़े नमकीन पानी में डाल दीजिये। तले हुए दही बड़ों को खाने से आधा घंटा पहले पानी में भिगोना चाहिए।
आधा घंटे बाद दही बड़े पानी में भीगकर नरम हो जायेंगे। अब एक दही बड़ा पानी से निकालिये और हथेली से दबाकर अधिक पानी को निकाल दें और दूसरे बर्तन में रख दीजिये। इसके बाद दही को अच्छी तरह से मथ लीजिये और आधा चम्मच नमक मिला लीजिये। दही को बड़ों के ऊपर अच्छी प्रकार से डाल दीजिये और भुना हुआ जीरा छिड़क दीजिये। ऊपर से हरा धनिया छिड़क कर आपके दही बड़े तैयार हैं।



To read this article in English, click here

Forthcoming Festivals

Download our free mobile app

Get festival updates on your mobile & Explore and enjoy the panorama of Festivals/Fairs/Melas celebrated in India.