सावन का महीना पूजा पाठ और व्रत त्योहारों का महीना होता है। सावन में अधिकतर महिलाओं के त्योहार आते हैं। हरियाली तीज भी उन में से एक है। बारिश के महीने में जब सभी पेड़-पौधे और घास एकदम हरे हो जाते हैं तब ऐसा लगता है मानो किसी ने हरा रंग पोत दिया हो। इसी तर्ज पर श्रावणी तीज को हरियाली तीज कहा जाता है। इस तीज में नविवाहितें और महिलाएं पूरी तरह तैयार होकर व्रत के साथ साथ पूजा पाठ और मनभावन गीत गाती हैं। इस साल ये तीज सितंबर 1 (रविवार) को आ रही है।

Image result

व्रत विधि

-सबसे पहले सुबह जल्दी उठें
-व्रत में कुछ नहीं पीना होता है, इसलिये कुछ ना पीएं
-घर से कूड़ा कर्कट बाहर निकाल कर उसे सजाएं
-लकड़ी की चौकी पर गंगाजल और मिट्टी से प्रतिमाएं बनाएं
-गणेश, रिद्धि-सिद्धि, शिवलिंग और पार्वती की मूर्ति बनाएं
-षोडशोपचार का पूजन इनके सामने करें
-पूरा दिन भगवान का स्मरण करें और कीर्तन करें
-शिव मंत्र का जाप करें
-अंत में व्रत कथा उसें
-पूरा दिन ना तो गुस्सा करें और ना ही अपशब्द बोलें

Related image

हरतालिका व्रत कथा

ये कथा शिवजी से पार्वती मां को सुनाई थी। शिव भगवान ने इस कथा में पार्वती मां के पिछले जन्म के बारे में बताया था
“हे गौरी! पिछले जन्म में तुमने छोटे होते ही  बहुत पूजा और तप किया था | तुमने ना तो कुछ खाया और ना ही पीय बस हवा और सूखे पत्ते चबाए। जला देने वाली गर्मी हो या कंपा देने वाली ठंड तुम नहीं हटीं। बारिश में भी तुमने जल नहीं पिया। तुम्हे इस हालत में देखकर तुम्हारे पिता दु:खी थे। उनको दु:खी देख कर नारदमुनि आए और कहा कि मैं  “मैं भगवान् विष्णु के भेजने पर यहाँ आया हूँ| आपकी कन्या की घोर तपस्या से प्रसन्न होकर वह उससे विवाह करना चाहते हैं| इस बारे में मैं आपकी राय जानना चाहता हूँ”
’नारदजी की बात सुनकर  आपके पिता वोले अगर भगवान विष्णु ये चाहते हैं तो उन्हें कोई आपत्ति नहीं ।
परंतु जब तुम्हे इस विवाह के बारे में पता चला तो तुम दुःखी हो गईं।  तुम्हारी एक सहेली ने तुम्हारे दुःख का कारण पूछा तो तुमने कहा कि ‘मैंने सच्चे मन से भगवान् शिव का वरण किया है,किन्तु मेरे पिता ने मेरा विवाह विष्णुजी के साथ तय कर दिया है| मैं विचित्र धर्मसंकट में हूँ| अब मेरे पास प्राण त्याग देने के अलावा कोई और उपाय नहीं बचा’ तुम्हारी सखी बहुत ही समझदार थी| उसने कहा-‘प्राण छोड़ने का यहाँ कारण ही क्या है? संकट के समय धैर्य से काम लेना चाहिये| भारतीय नारी के जीवन की सार्थकता इसी में है कि जिसे मन से पति रूप में एक बार वरण कर लिया, जीवनपर्यन्त उसी से निर्वाह करे| मैं तुम्हे घनघोर वन में ले चलती हूँ जो साधना थल भी है और जहाँ तुम्हारे पिता तुम्हे खोज भी नहीं पायेंगे| मुझे पूर्ण विश्वास है कि ईश्वर अवश्य ही तुम्हारी सहायता करेंगे’
तुमने ऐसा ही किया| तुम्हारे पिता तुम्हे घर में न पाकर बड़े चिंतित और दुःखी हुए| इधर तुम्हारी खोज होती रही उधर तुम अपनी सहेली के साथ नदी के तट पर एक गुफा में मेरी आराधना में लीन रहने लगीं|तुमने रेत के शिवलिंग का निर्माण किया| तुम्हारी इस कठोर तपस्या के प्रभाव से मेरा आसन हिल उठा और मैं शीघ्र ही तुम्हारे पास पहुँचा और तुमसे वर मांगने को कहा तब अपनी तपस्या के फलीभूत मुझे अपने समक्ष पाकर तुमने कहा ‘मैं आपको सच्चे मन से पति के रूप में वरण कर चुकी हूँ| यदि आप सचमुच मेरी तपस्या से प्रसन्न होकर यहाँ पधारे हैं तो मुझे अपनी अर्धांगिनी के रूप में स्वीकार कर लीजिये| ‘तब ‘तथास्तु’ कहकर मैं कैलाश पर्वत पर लौट गया| उसी समय गिरिराज अपने बंधु-बांधवों के साथ तुम्हे खोजते हुए वहाँ पहुंचे| तुमने सारा वृतांत बताया और कहा कि मैं घर तभी जाउंगी अगर आप महादेव से मेरा विवाह करेंगे। तुम्हारे पिता मान गए औऱ उन्होने हमारा विवाह करवाया। इस व्रत का महत्त्व यह है कि मैं इस व्रत को पूर्ण निष्ठा से करने वाली प्रत्येक स्त्री को मन वांछित फल देता हूँ"|.


To read this article in English click here

Forthcoming Festivals

Download our free mobile app

Get festival updates on your mobile & Explore and enjoy the panorama of Festivals/Fairs/Melas celebrated in India.