हिंदी दिवस

हिंदी भारत की मातृ भाषा है। भारत में हिंदी बोलने वाले क्षेत्र व लोग सबसे अधिक है। अंग्रेंजी के बाद हिन्दी को ही कामकाज की दूसरी भाषा के रुप में प्रयोग किया जाता है। हिन्दी की महत्वता इतिहास से ही रही है। हिन्दी को संस्कृत का ही अपभ्रंश रुप माना जाता है जो साहित्य में भी झलकता है। हिन्दी की महत्वता को प्रदर्शित करने के लिए भारत में हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है। यह लाल पत्र दिवस भारत और बाकी दुनिया में हिंदी भाषा के महत्व को उजागर करने के लिए मनाया जाता है। 14 सितंबर 1949 को, आजादी के बाद, हिंदी को घटक विधानसभा द्वारा भारत की राष्ट्रीय भाषा के रूप में अपनाया गया था। हालाँकि हिंदी भाषा को 14 सितंबर, 1949 को एक आधिकारिक भाषा बनाया गया था, लेकिन यह 26 जनवरी, 1950 को भारतीय संविधान के अनुच्छेद 343 के तहत 48 बोलियों के साथ आधिकारिक तौर पर आज तक मान्यता प्राप्त है। यह घोषित किया गया था कि केवल हिंदी का उपयोग भारतीय संघ सरकार और राज्य सरकार के लिए एक प्रतिनिधि भाषा के रूप में किया जाएगा।

हिंदी के राजभाषा बनने का इतिहास

साल 1947 में जब अंग्रेजी हुकूमत से भारत आजाद हुआ तो उसके सामने भाषा को लेकर सबसे बड़ा सवाल था। क्योंकि भारत में सैकड़ों भाषाएं और बोलियां बोली जाती है। 6 दिसंबर 1946 में आजाद भारत का संविधान तैयार करने के लिए संविधान का गठन हुआ। संविधान सभा ने अपना 26 नवंबर 1949 को संविधान के अंतिम प्रारूप को मंजूरी दे दी। आजाद भारत का अपना संविधान 26 जनवरी 1950 से पूरे देश में लागू हुआ। लेकिन भारत की कौन सी राष्ट्रभाषा चुनी जाएगी ये मुद्दा काफी अहम था। काफी सोच विचार के बाद हिंदी और अंग्रेजी को नए राष्ट्र की भाषा चुना गया। संविधान सभा ने देवनागरी लिपी में लिखी हिन्दी को अंग्रजों के साथ राष्ट्र की आधिकारिक भाषा के तौर पर स्वीकार किया था। 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एक मत से निर्णय लिया कि हिंदी ही भारत की राजभाषा होगी।
देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने कहा कि इस दिन के महत्व देखते हुए हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाए। बतादें पहला हिंदी दिवस 14 सितंबर 1953 में मनाया गया था। साल 1918 में महात्मा गांधी ने हिंदी साहित्य सम्मेलन में हिन्दी भाषा को राष्ट्रभाषा बनाने को कहा था। इसे गांधी जी ने जनमानस की भाषा भी कहा था।

258 मिलियन से अधिक लोग हिंदी को अपनी प्राथमिक भाषा के रूप में उपयोग करते हैं और हिंदी दुनिया भर में सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषाओं में पांचवें स्थान पर है। यह भाषा 17 वीं शताब्दी में मुगल काल के दौरान एक आम संवादात्मक भाषण के रूप में उभरने लगी थी। हिंदी की शब्दावली प्रज्ञा और अपभ्रंश के माध्यम से संस्कृत से ली गई है। हिंदी इंडो-यूरोपियन भाषा परिवार की इंडो-आर्यन शाखा से ली गई है। हिंदी जिस मानक पर आधारित है, वह खदीबोली, दिल्ली की बोलचाल की भाषा और उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के पड़ोसी क्षेत्रों के रूप में जाना जाता है।

हिन्दी भाषा से जुड़े तथ्य

हिंदी के व्युत्पन्न शब्दों को पाँच प्रमुख श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है: ततसम (एक जैसे), अधारत्तम, तदभव (उस से पैदा हुआ), देशज और विदेशी (विदेशी)। इस भाषा के लिए लेखन प्रणाली देवनागरी (भ्रामिक) और हिंदी ब्रेल है। हिंदी गाँव (गांव) की भाषा, किसान (किसान) और vidhyan (वैज्ञानिकों) के रूप में माना जाता है। हिंदी साहित्य भारत के लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण महत्व रखता है
हिंदी भारतीय गणराज की राजकीय और मध्य भारतीय- आर्य भाषा है। 2001 की जनगणना के अनुसार, लगभग 25।79 करोड़ भारतीय हिंदी का उपयोग मातृभाषा के रूप में करते हैं, जबकि लगभग 42।20 करोड़ लोग इसकी 50 से अधिक बोलियों में से एक इस्तेमाल करते हैं।

हिन्दी विश्व में चौथी ऐसी भाषा है जिसे सबसे ज्याजदा लोग बोलते हैं। ताजा आंकड़ों के मुताबिक वर्तमान में भारत में 43।63 फीसदी लोग हिन्दीत भाषा बोलते हैं। जबकि 2001 में यह आंकड़ा 41।3 फीसदी था। तब 42 करोड़ लोग हिन्दी बोलते थे। जनगणना के आंकड़ों के अनुसार 2001 से 2011 के बीच हिन्दी बोलने वाले 10 करोड़ लोग बढ़ गए। साफ है कि हिन्दी देश की सबसे तेजी से बढ़ती भाषा है।

1998 के पूर्व, मातृभाषियों की संख्या की दृष्टि से विश्व में सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषाओं के जो आंकड़े मिलते थे, उनमें हिंदी को तीसरा स्थान दिया जाता था।हिंदी की प्रमुख बोलियों में अवधी, भोजपुरी, ब्रजभाषा, छत्तीसगढ़ी, गढ़वाली, हरियाणवी, कुमांऊनी, मागधी और मारवाड़ी भाषा शामिल हैं।

स्वतंत्रता के बाद, 1954 में, भारत सरकार ने इस भाषा के व्याकरण और ऑर्थोग्राफी के मानकीकरण के लिए सम्मेलनों की शुरुआत की। इसने हिंदी के व्याकरण को मानकीकृत करने के लिए एक समिति का गठन किया और 1968 में ए बेसिक ग्रामर ऑफ़ मॉडर्न लैंग्वेज नामक एक रिपोर्ट जारी की गई। लेखन में एकरूपता शिक्षा और संस्कृति मंत्रालय के केंद्रीय हिंदी निदेशालय द्वारा नियंत्रित की जाती है।

हिंदी उन सात भाषाओं में से एक है जिसका उपयोग इंटरनेट पर वेब साइट बनाने के लिए किया जाता है। इस भाषा के ये सभी पहलू इसे पूरे विश्व में प्रतिष्ठित भाषाई महत्व देते हैं। यह भाषा भारत के लोगों के बीच सामंजस्यपूर्ण संबंध बनाने के लिए एक उत्कृष्ट उपकरण के रूप में काम करती है और विविध भारत को धर्मनिरपेक्ष बनाने में मदद करती है।

पाकिस्तान, नेपाल, बांग्लािदेश, अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, न्यूभजीलैंड, संयुक्तथ अरब अमीरात, युगांडा, गुयाना, सूरीनाम, त्रिनिदाद, मॉरिशस और साउथ अफ्रीका समेत कई देशों में हिन्दी। बोली जाती है। साल 2017 में ऑक्साफोर्ड डिक्श नरी में पहली बार 'अच्छा', 'बड़ा दिन', 'बच्चा' और 'सूर्य नमस्कार' जैसे हिन्दीव शब्दोंय को शामिल किया गया।

हिंदी दिवस का उत्सव

हिंदी दिवस पर, भारत के राष्ट्रपति, विज्ञान भवन, नई दिल्ली में, हिंदी संस्कृति, साहित्य और कविता के क्षेत्र में उल्लेखनीय उत्कृष्टता वाले लोगों को पुरस्कार देते हैं। वह लोगों को हिंदी भाषा के व्यापक उपयोग को प्रोत्साहित करने के लिए संबोधित करते हैं। हिंदी के महत्व को मूर्त रूप देने के लिए कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जो इस भाषा की शुद्धता बनाए रखने के लिए पहल करते हैं। इस अवसर पर, राजभाषा पुरस्कार मंत्रियों, विभागों, सार्वजनिक उपक्रमों और राष्ट्रीयकृत बैंकों से सम्मानित किए जाते हैं। यह भाषा केंद्रीय हिंदी निदेशालय, भारत द्वारा विनियमित है। हिंदी, इसकी संस्कृति, साहित्य और कविता को बढ़ावा देने के लिए प्रतियोगिताओं, क्विज़ और बहुत कुछ जैसे स्कूलों और कॉलेजों के छात्रों द्वारा एक सक्रिय भागीदारी प्रदान की जाती है। यानी कि 14 सितंबर से लेकर अगले 15 दिनों तक सरकारी दफ्तों में विभिन्न् प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती हैं। यही नहीं साल भर हिन्दील के विकास के लिए अच्छाग काम करने वाले सरकारी दफ्तरों को पुरस्का्र से भी सम्माीनित किया जाता है।

To read this Article in English Click here

Forthcoming Festivals

Download our free mobile app

Get festival updates on your mobile & Explore and enjoy the panorama of Festivals/Fairs/Melas celebrated in India.