जन्माष्टमी का दिन बड़ा ही अहम होता है। इसी दिन भगवान श्रीकृष्ण ने दुष्टों का संहार करने के लिये धरती पर जन्म लिया था। जन्माष्टमी पर पूजा का बहुत महत्व है। चलिये आपको बताते हैं कि कैसे व्रत और पूजा कर सकते हैं।

जन्माष्टमी व्रत पूजा विधि

Image result for janmashtami puja vidhi
व्रत की पूर्व रात्रि को हल्का भोजन करें और ब्रह्मचर्य का पालन करें.
- सूर्य, सोम, यम, काल, संधि, भूत, पवन, दिक्‌पति, भूमि, आकाश, खेचर, अमर और ब्रह्मादि को नमस्कार कर पूर्व या उत्तर मुख बैठें.
- व्रत के दिन सुबह स्नानादि नित्यकर्मों से निवृत्त हो जाएं.
- इसके बाद जल, फल, कुश और गंध लेकर संकल्प करें:
ममखिलपापप्रशमनपूर्वक सर्वाभीष्ट सिद्धये श्रीकृष्ण जन्माष्टमी व्रतमहं करिष्ये॥
- अब शाम के समय काले तिलों के जल से स्नान कर देवकीजी के लिए सूतिकागृह नियत करें.
- इसके बाद भगवान श्रीकृष्ण की मूर्ति या चित्र स्थापित करें.
- मूर्ति में बालक श्रीकृष्ण को स्तनपान कराती हुई देवकी हों और लक्ष्मीजी उनके चरण स्पर्श किए हों अगर ऐसा चित्र मिल जाए तो बेहतर रहता है.
- इसके बाद विधि-विधान से पूजन करें. पूजन में देवकी, वसुदेव, बलदेव, नंद, यशोदा और लक्ष्मी इन सबका नाम क्रमशः लेना चाहिए.
- फिर निम्न मंत्र से पुष्पांजलि अर्पण करें- प्रणमे देव जननी त्वया जातस्तु वामनः। वसुदेवात तथा कृष्णो नमस्तुभ्यं नमो नमः। सुपुत्रार्घ्यं प्रदत्तं में गृहाणेमं नमोऽस्तुते।
- अंत में प्रसाद वितरण कर भजन-कीर्तन करते हुए रतजगा करें.

जन्माष्टमी पूजन के मंत्र

    ऊं नमो भगवते वासुदेवाय नम: (इस मंत्र का जाप दिन भर करते रहना चाहिए)          
                      
    योगेश्वराय योगसम्भवाय योगपताये गोविन्दाय नमो नमः (इस मंत्र द्वारा श्री हरि का ध्यान करें)

    यज्ञेश्वराय यज्ञसम्भवाय यज्ञपतये गोविन्दाय नमो नमः (इस मंत्र द्वारा श्री कृष्ण की बाल प्रतिमा को स्नान कराएं)

    वीश्वाय विश्वेश्वराय विश्वसम्भवाय विश्वपतये गोविन्दाय नमो नमः (इस मंत्र द्वारा भगवान को धूप ,दीप, पुष्प, फल आदि अर्पण करें)

    धर्मेश्वराय धर्मपतये धर्मसम्भवाय गोविन्दाय नमो नमः (इस मंत्र से नैवेद्य या प्रसाद अर्पित करें)

Image result for janmashtami puja vidhi

To read this article in English click here

Forthcoming Festivals

Download our free mobile app

Get festival updates on your mobile & Explore and enjoy the panorama of Festivals/Fairs/Melas celebrated in India.