लोहड़ी जिसके की मकर संक्रांति भी कहा जाता है उसके बारे में पंजाब, हिमाचल और दिल्ली में शायद ही ऐसा कोई होगा जो जानता नहीं होगा। जनवरी महीना आते ही सबसे पहले लोहड़ी का त्योहार ही आता है। सर्दियों का मौसम होता है और हर जगह धुंध और ठंड का आलम। ऐसे में कहा जाता है कि लोहड़ी आ गई तो सर्दी अब धीरे धीरे चली जाएगी (आई लोड़ी, गया स्याल कोड़ी)। लोहड़ी का महत्व कई तरीके से है। पूजा पाठ के तरीके से भी, फसल बोने के तरीके से भी और त्योहार के तौर पर भी। आखिर लोहड़ी शुरू कैसे हुई थी। किसने इसको पहली बार मनाया। कुछ पौराणिक कथाएं आज हम पढ़ेंगे जो कि लोहड़ी से जुड़ी हुई हैं।

पहली कथा

Related image

लोहड़ी को लेकर एक कथा बहुत प्रचलित है वो है दुल्ले भट्टी वाले की। बच्चे जब घर घर जाकर लोहड़ी मांगते हैं तो दुल्ले भट्टी वाले की कहानी सुनाते हैं (सुंदर मुंदरिये, तेरा कौण बचारा, दुल्ला भट्टी वाला, दुल्लैं ती बियाई...) अकबर के जमाने में "दुल्ला भट्टी" नाम का एक डाकू हुआ करता था, जिसके नाम का आतंक ही लोगो को डराने के लिए काफ़ी था| दुल्ला भट्टी गरीबों का मसीहा माना जाता था। अकबर के शासन के दौरान ग़रीब और कमज़ोर लड़कियों को अमीर लोग गुलामी करने के लिए बलपूर्वक बेच देते थे| इसी दौर में सुंदरी और मुंदरी नाम की दो अनाथ लड़कियां थीं। लड़कियों का चाचा बहुत बुरा था और वो उन्हें पैसों के लिये बेचना चाह रहा था। दोनो बच्चियों ने दुल्ला भट्टी वाले को गुहार लगाई। तब दुल्ले ने अपने बल से दोनो बच्चियों को दुशमनों के चंगुल से छुड़ाया और फिर अच्छे लड़के ढूंढ कर जंगल में ही आग जलाई और दोनो की सादी करवाई। कन्यादान करने का वक्त आया तो दुल्ले ने बच्चियों का पिता बनकर उनका कन्यादान किया। शादी के बाद शगुन देने के लिये उसके पास कुछ नहीं था तो उसने एक सेर शक्कर लड़कियों की झोली में डालकर उन्हें विदा किया। तभी तो बच्चे भी लोहड़ी मांगते वक्त गाते हैं (दुल्लैं ती बियाई… सेर शक्कर पाई..)

2) लोहड़ी के दिन माताएं अपनी विवाहिता बच्चियों को गुड़, तिल, रेवड़ी, मूंगफलियों के साथ कुछ गर्म कपड़े भेजती हैं। माना जाता है कि जब दक्ष प्रजापति ने अपने दामाद भगवान शिव का अपमान किया और पुत्री सती का निरादर किया तो क्रोधित सती ने आत्मदाह कर लिया। इसके बाद दक्ष को इसका बड़ा दंड भुगतना पड़ा। दक्ष की गलती को सुधारने के लिए ही माताएं लोहड़ी के मौके पर पुत्री को उपहार देकर दक्ष द्वारा किए अपराध का प्रायश्चित करती हैं।

Image result for veerbhadra killed daksha

3) भगवान श्रीकृष्ण की नगरी में सभी गोकुलवासी मकर संक्रांति की तैयारी में लगे थे। इसी समय कंस ने लोहिता नामक राक्षसी को भगवान श्री कृष्ण को मारने के लिए भेजा लेकिन भगवान श्री कृष्ण ने लोहिता के प्राण हर लिये। इस उपलक्ष में मकर संक्रांति से एक दिन पहले लोहरी पर्व मनाया जाता है।

Related image

लोहड़ी नाम के पीछे की कहानी

लोहड़ी के नाम के पीछे का कोई एक कारण स्पष्ट नहीं है। इसके अलग अलग उदाहरण दिये जाते रहे हैं। भगवान श्रीकृष्ण के मकर संक्रांति के दिन लोहिता राक्षस के वध करने के दिन इसका नाम लोहड़ी रखा गया। दूसरे उदाहरण के मुताबिक  ल (लकड़ी) +ओह (गोहा = सूखे उपले) +ड़ी (रेवड़ी) = लोहड़ी के प्रतीक हैं। तीसरे उदाहरण के अनुसार लोहड़ी शब्द लोही से बना है, जिसका अभिप्राय है वर्षा होना, फसलों का फूटना। एक लोकोक्ति है कि अगर लोहड़ी के समय वर्षा न हो तो खेती का नुकसान होता है।

लोहड़ी की कथा का वीडियो

Forthcoming Festivals

Download our free mobile app

Get festival updates on your mobile & Explore and enjoy the panorama of Festivals/Fairs/Melas celebrated in India.