महानंदा नवमी

भारत वर्ष में कई त्योहार एवं उत्सव मनाए जाते हैं जिनमें से एक ताला नवमी है। ताल नवमी को महा नंद नवमी के नाम से भी जाना जाता है, यह भाद्रपद महीने में मनाया जाने वाला एक शुभ दिन है जो हर साल अगस्त या सितंबर के महीने में मनाया जाता है। हिन्दू मान्यताओं के अनुसार, मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि यानी गुप्त नवरात्रि के अंतिम दिन यानी नवमी तिथि को श्री महानंदा नवमी पर्व मनाया जाता है। यदि किसी अज्ञात कारणों की वजह से अगर जीवन में सुख-समृद्धि, रुपया-पैसा, धन की कमी हुई हो, तो यह व्रत करना बहुत अधिक महत्वपूर्ण माना जाता है। 2020 में ताला नवमी 27 सितंबर को मनाई जाएगी। यह दिन पूरे भारत में मनाया जाता है, लेकिन विशेष रूप से उड़ीसा और पश्चिम बंगाल में इस दिन का आयोजन किया जाता है। इस दिन, देवी दुर्गा के भक्त बड़े उत्साह के साथ उनकी पूजा करते हैं।

देवी दुर्गा शक्ति और ऊर्जा का प्रतीक हैं। बुराइयों से लड़ने के लिए शक्ति और सामर्थ्य प्राप्त करने के लिए महिलाओं द्वारा उनकी विशेष रूप से पूजा की जाती है। देवी दुर्गा की पूजा करने से बुरी आत्माओं पर विजय प्राप्त होती है। हिंदी में, दुर्गा का अर्थ एक ऐसी जगह या एक किला है, जिसे पार नहीं किया जा सकता है। इसका मतलब है कि देवी दुर्गा को अजेय माना जाता है। दुर्गा का एक अन्य अर्थ है "दुर्गतिनाशिनी" जिसका अर्थ है कि कष्टों को दूर करने वाला। इस प्रकार, हिंदुओं का मानना है कि देवी दुर्गा अपने भक्तों को दुनिया की बुराइयों से बचाती हैं और उनके दुखों को भी दूर करती हैं। दुर्गा के नौ अवतार या रूप हैं, अर्थात्, शैलपुत्री, चंद्रघंटा, ब्रह्मचारिणी, स्कंद माता, कुष्मांडा, 1 कालरात्रि, महागौरी, कात्यायनी और सिद्धिदायिनी है। ताल नवमी पर, देवी दुर्गा के सभी रूपों की पूजा की जाती है।

महानंदा नवमी की पूजा विधि

  • महानंदा व्रत के दिन पूजा करने का खास विधान है। महानंदा नवमी से कुछ दिन पहले घर की साफ-सफाई करें।
  • नवमी के दिन पूजाघर के बीच में बड़ा दीपक जलाएं और रात भर जगे रहें। महानंदा नवमी के दिन ऊं हीं महालक्ष्म्यै नमः का जाप करें।
  • रात्रि जागरण कर ऊं ह्रीं महालक्ष्म्यै नमः का जाप करते रहें।
  • जाप के बाद रात में पूजा कर पारण करना चाहिए।
  • साथ ही नवमी के दिन कुंवारी कन्याओं को भोजन करा कुछ दान दें फिर उनसे आर्शीवाद मांगें। आर्शीवाद आपके लिए बहुत शुभ होगा।

महानंदा नवमी का महत्व

ऐसा माना जाता है कि ताला नवमी यचानि महानंदा नवमी के दिन व्रत तथा पूजा करने से घर के सभी दुख और क्लेश दूर हो जाते हैं। इस व्रत के मनुष्य को न केवल भौतिक सुख मिलते हैं बल्कि मानसिक शातिं भी मिलती है। इस व्रत को करने और मन से लक्ष्मी का ध्यान कर पूजन करने से घर में सुख-समृद्धि आती है जो हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए लाभदायी होता है।

महानंदा नवमी से जुड़ी कथा

महानंदा नवमी व्रत की कथा के अनुसार एक बार एक साहूकार अपनी बेटी के साथ रहता था। बेटी बहुत धार्मिक प्रवृति की थी वह प्रतिदिन एक पीपल के वृक्ष की पूजा करती थी। उस पीपल के वृक्ष में लक्ष्मी जी का वास करती थीं। एक दिन लक्ष्मी जी साहूकार की बेटी से दोस्ती कर ली। लक्ष्मी जी एक दिन साहूकार की बेटी को अपने घर ले गयीं और उसे खूब खिलाया-पिलाया। उसके बाद बहुत से उपहार देकर बेटी को विदा कर दिया। साहूकार की बेटी को विदा करते समय लक्ष्मी जी बोली कि मुझे कब अपने घर बुला रही हो इस पर साहूकार की बेटी उदास हो गयी। उदासी से उसने लक्ष्मीजी को अपने घर आने का न्यौता दे दिया। घर आकर उसने अपने पिता को यह बात बतायी और कहा कि लक्ष्मी जी का सत्कार हम कैसे करेंगे। इस पर साहूकार ने कहा हमारे पास जो भी है उसी से लक्ष्मी जी का स्वागत करेंगे। तभी एक चील उनके घर में हीरों का हार गिरा कर चली गयी जिसे बेचकर साहूकार की बेटी ने लक्ष्मी जी के लिए सोने की चौकी, सोने की थाली और दुशाला खरीदी। लक्ष्मीजी थोड़ी देर बाद गणेश जी के साथ पधारीं। उस कन्या ने लक्ष्मी-गणेश की खूब सेवा की। उन्होंने उस बालिका की सेवा से प्रसन्न होकर समृद्ध होने का आर्शीवाद दिया।

दुर्गा माँ की कथा

भगवान ब्रह्मा, शिव और विष्णु की त्रिमूर्ति ने महिषासुर को मारने के लिए एक महिला को हथियार बनाने का फैसला किया क्योंकि वह शिव द्वारा आशीर्वाद दिया गया था कि कोई भी आदमी या भगवान उसे नहीं मार सकता। इन तीनों देवताओं ने एक में अपनी ऊर्जा को एकीकृत किया और दुर्गा को बनाया। उसे अपनी दस भुजाओं में कई हथियार दिए गए थे। उन हथियारों के साथ देवी दुर्गा ने युद्ध के मैदान में महिषासुर और उसकी सेना को हराया। देवी दुर्गा एक ऐसी महिला की शक्ति का प्रतीक और प्रेरणा देती हैं जो किसी पुरुष से कम नहीं है। वह देवी पार्वती, आदि शक्ति के रूपों में से एक हैं। देवी दुर्गा की दस भुजाएँ हैं और ये दस भुजाएँ हिंदू धर्म में दस दिशाओं का संकेत देती हैं। वह एक शेर पर खड़ी है जिसने भय से मुक्ति का संकेत दिया। इसलिए दुर्गा के भक्तों को स्वतंत्रता की भावना और गलत के खिलाफ लड़ने का साहस दिया जाता है।

महानंदा नवमी का उत्सव

इस दिन, हर जगह से लोग दुर्गा मंदिरों में जाते हैं और उनका आशीर्वाद पाने के लिए उनकी स्तुति और भजन करने के लिए भजन करते हैं। दुर्गा अष्टमी और दुर्गा पूजा की तैयारियाँ, जो एक महीने में होती हैं, इस दिन से शुरू होती हैं। श्रद्धालु, विशेषकर विवाहित महिलाएं इस दिन उपवास रखती हैं। वे रात को चांद देखकर अपना व्रत तोड़ते हैं। तलर बारा नामक एक विशेष व्यंजन - पके हुए ताड़ के फल के गूदे से बनी छोटी-छोटी गेंदें, जिन्हें कद्दूकस किया हुआ नारियल, चीनी, आटा और फिर तेल में डीप फ्राई करके बनाया जाता है। तैयार किए गए अन्य व्यंजन हैं राजभोग, मुरमुरा लड्डू, कलाकंद, सुनहरी रसमलाई, लूची, भोपा एलू और कई अन्य। लोग अपने पारंपरिक पोशाक में, सफेद और लाल रंग की साड़ी में महिलाएं और सफेद धोती में पुरुष कपड़े पहनते हैं। ओडिशा में बिजारा मंदिर और पश्चिम बंगाल में कनक दुर्गा मंदिर इस त्योहार के उत्सव के लिए प्रसिद्ध हैं। आशीर्वाद की दृष्टि से इस दिन देवी दुर्गा की पूजा करने के बाद भक्तों में एक अद्भुत उत्साह और ऊर्जा का अनुभव होता है।

To read this Article in English Click here

Forthcoming Festivals

Download our free mobile app

Get festival updates on your mobile & Explore and enjoy the panorama of Festivals/Fairs/Melas celebrated in India.