मुंशी प्रेमचंद, ये एक ऐसा नाम है जिससे कोई भी हिंदी पढ़ने, बोलने या जानने वाला शायद ही होगा जो इससे वाक़िफ़ नहीं होगा। हिंदी लेखन में इनका सबसे बड़ा योगदान रहा है। मुंशी प्रेमचंद जी ने कई उपन्यास और साहित्य लिखे जो आज भी स्कूलों में पढा़ए जाते हैं। इनके उपन्यासों पर कई कार्यक्रम और नाटक भी बने हैं। मुंशी जी का जन्म 31 जुलाई 1880 को हुआ था और अक्टूबर 8, 1936 को उन्होंने इस दुनिया को अलविदा कह दिया। उनकी पुण्यतिथि पर हिंदी लेखन के जानकार कई कार्यक्रम आयोजित करते हैं और मुंशी जी के योगदान को याद करते हैं।

Image result for munshi prem chand

जीवन

मुंशी प्रेमचंद जी का जन्म बनारस के लमही गांव में मुंशी अजायबराय के घर हुआ था। शुरूआती शिक्षा में ये काफी आगे निकले और छोटी सी उम्र में ही कई किताबें पढ़ लीं। इनका असली नाम धनपत राय था।जब ये 14 साल के थे तो पहले माता और फिर पिता का निधन हो गया। दसवीं कर के ये स्कूल में अध्यापक बन गए। मुंशी जी साथ साथ में पढ़ते भी रहे और फिर शिक्षा विभाग में इंस्पेक्टर लग गए। छोटी उम्र में ही इनका विवाह हो गया, लेकिन वो ज्यादा दिन नहीं चला। इन्होंने दूसरा विवाह किया और तीन संतानें हुईं।

धनपत राय से प्रेमचंद बनने की कहानी

मुंशी जी ने एक बार “सोजे वतन” नाम की एक रचना लिखी, जिससे नाराज होकर उन्हें कलेक्टर ने बुलायाऔऱ कहा कि अगर आगे से उन्होंने जनता को भड़काने वाला कुछ भी लिखा तो उन्हें जेल जाना पड़ेगा। तब मुंशी जी के दोस्त ने उन्हे कहा कि आप धनपत राय के नाम से नहीं बल्कि प्रेमचंद के नाम से लिखें। उस दिन के बाद से वो मुंशी प्रेमचंद बन गए।

Image result for munshi premchand family

हिंदी लेखन

मुंशी जी जब 13 साल के थे तभी से उन्होंने लेखन शुरू कर दिया। पहले नाटक लिखे और फिर उर्दू में उपन्यास। धीरे धीरे साहित्य, निबंध, लेख, रचनाएं और ट्रांसलेशन भी की।
मुख्य रचनाएं

1) गबन
2) कर्मभूमि
3) गोदान
4) प्रेमाश्रम
5) रंगभूमि
6) निर्मला
7) कायाकल्प
8) सेवासदन

To read this article in English click here

Forthcoming Festivals

Download our free mobile app

Get festival updates on your mobile & Explore and enjoy the panorama of Festivals/Fairs/Melas celebrated in India.