नव चंडी मेला

नव चंडी मेला, जिसे नौचंदी मेले के रूप में भी जाना जाता है, उत्तर प्रदेश के मेरठ शहर में मनाया जाता है। इसे महान ऐतिहासिक महत्व के लिए भी जाना जाता है। मुख्य रूप से मवेशी व्यापारियों के लिए एक विशेष त्योहार के रूप में माना जाता है, इसमें कई लोगों के साथ-साथ उनके मवेशी भी शामिल होते हैं जो एक रंगीन वातावरण को दर्शाते हैं।
हजरत बाले मियां की दरगाह एवं नवचण्डी देवी (नौचन्दी देवी) का मंदिर एक दूसरे के निकट ही स्थित हैं। मेले के दौरान मंदिर के घण्टों के साथ अजान की आवाज़ एक सांप्रदायिक अध्यात्म की प्रतिध्वनि देती है। यह मेला चैत्र मास के नवरात्रि त्यौहार से एक सप्ताह पहले से, लगभग होली के एक सप्ताह बाद लगता है और एक माह तक चलता है। होली के बाद एक रविवार छोड़कर दूसरे रविवार को मेले का पारंपरिक उद्घाटन होता है।

यह मेला 346 वर्षो से आयोजित हो रहा है। एक दिन की अवधि से शुरू हुआ मेला धीरे-धीरे एक महीने का होने लगा। यह मेला हिंदृ मुस्लिम सांप्रदायिक सौहार्द का उदाहरण है। यहा पर जहां देवी नवचंडी का प्राचीन मंदिर है। मान्यता है कि इसकी स्थापना रावण और उसकी पत्नी मंदोदरी ने की थी। उन्होंने ही यहा पर नवरात्र में देवी की पूजा की शुरुआत की थी। पौराणिक मान्यता के अनुसार यहा पर देवी सती का उरू भाग गिरा था, इसलिए यह शक्तिपीठ व पुण्य स्थल है। इतिहासकारों की माने तो 11वीं शताब्दी में अलाऊदीन खिलजी के सेनापति सैयद सलार मसूद ने इस क्षेत्र पर आक्रमण किया। स्थानीय लोगों ने इनका डटकर मुकाबला किया। नवचंडी देवी मंदिर के पुजारी की बेटी ने युद्ध में अपनी तलवार से सलार मसूद की उंगली काट दी। इसके बाद सेनापति सैयद सलार मसूद का मन युद्ध से विरत हो गया। वह फकीर बन गए और बाले शाह के नाम से प्रसिद्ध हो गए। बहराईच क्षेत्र में सलार मसूद ने शरीर त्याग दिया, जहा पर स्थानीय लोगों ने उसका मजार बनवा दिया। जहा सलार मसूद की उंगली कटकर गिरी थी, वहा पर हर साल मजार पर नवरात्र के दौरान मेला लगने लगा। यहा एक ओर मंदिर में नवचंडी देवी के जयकारे गूंजते हैं, मंदिर की घटिया गूंजती हैं, तो दूसरी तरफ मजार पर बाले शाह की शान में कव्वाली गाई जाती हैं।

नव चंडी मेले की खासियत

नव चंडी मेले में कई कलाकारों को अपनी कला प्रदर्शित करने का अवसर मिलता है। परंपरागत शिल्प मेले में तमाम तरह की परंपरागत शिल्प की दुकानें लगती हैं। मुरादाबादी पीतल व अन्य पीतल के बर्तन व सजावट की वस्तुएं देखकर अलग ही अनुभूति होती है। काष्ठ कला, राजस्थानी कला कृतिया जैसे हरेक वस्तु मेले के लिए आपको आकर्षित करती है। मेले में कई रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आयोजन किया जाता है।

नवचंडी मेले का इतिहास

शुरू में यह मेला मंदिर और मजार के आसपास ही लगता था, लेकिन धीरे-धीरे इसका विस्तार होता गया। देश के कौने-कौने से व्यापारी आकर यहां भिन्न-भिन्न तरीके के उत्पाद बेचते थे। इससे न केवल शहर के लोगों को अपनी कल्चर का बोध होता था, बल्कि देश के आर्थिक लाभ भी होता था। अंग्रेजी हुकूमत के दौरान यहां बहुत बड़ा पशु मेला भी लगता था। इस मेले में अरबी घोड़ों का व्यापार किया जाता था। सन् 1672 में मेले की नौचंदी मेले की शुरुआत शहर स्थित मां नवचंडी के मंदिर से हुई थी। शुरुआत में इसका नाम नवचंडी मेला था, जो बाद में नौचंदी के नाम से जाना गया। ---

नवचंदी मेले की कहानी

देवी सती के पिता राजा दक्ष प्रजापति ने भगवान शिव के एकल अपवाद के साथ सभी प्रकार और संतों को आमंत्रित करने के लिए एक भव्य दावत का आयोजन करने का फैसला किया, जो उनके दामाद हैं। इस तरह के अपमान से क्रोधित होकर, देवी सती ने शिव से अनुरोध किया कि अगर वे आमंत्रित न हों तो भी इस कार्यक्रम में शामिल हों। भगवान शिव मना कर देते हैं और इससे देवी सती नाराज हो जाती हैं और वह अग्नि में कूद जाती है। आखिरकार, वह एक अंधेरे ऊर्जा का रूप लेती है जो प्रभु द्वारा असहनीय साबित होती है। जिसके बाद भगवान शिव 10 अलग-अलग दिशाओं में चलने की कोशिश करते है, सती प्रत्येक दिशा में 10 अलग-अलग रूप लेने का प्रबंधन करती है। माता पार्वती सभी 10 रूपों के पीछे सर्वोच्च शक्ति हैं, जो भगवान शिव के पीछे भी वास्तविक ऊर्जा है।

नवचंडी मेले का आयोजन

देवी चंडी, पार्वती के अवतार, मेरठ में साइट पर आने वाले उपासकों द्वारा दिव्य प्रार्थना के साथ भेंट की जाती हैं। शायद, अपने मवेशियों के साथ आने वाले लोगों के साथ एक विशाल सभा की उम्मीद हो। वास्तव में, कुछ अन्य लोग हैं, जो देश के दूर स्थानों से अपने मवेशियों के साथ त्योहार का पालन करते हैं। हालांकि, उत्तर प्रदेश के सभी क्षेत्रों के लोगों को इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए विशेष रूप से आमंत्रित किया जाता है ताकि इसे एक शानदार सफलता मिल सके।

कुछ पर्यटकों के अनुसार, मेले में आयोजित होने वाले सभी कार्यक्रमों को देखना व्यक्तिगत रूप से एक अलग व्यवहार है। पशुधन पर आधारित व्यवसाय करने के इच्छुक लोग इस अवसर को सर्वोत्तम उदाहरण के रूप में पा सकेंगे। यह एक आम दृश्य है कि अधिकांश लोग सही तरीके से सर्वोत्तम बिक्री और सौदे खरीदने के लिए सक्रिय रूप से व्यापार करते हैं।

इस आयोजन का एकमात्र उद्देश्य यह है कि लोग मेले से बेहद संतुष्ट और आनन्दित हों। प्रत्येक वर्ष इस मेले की अपार सफलता को देखते हुए, इसे और अधिक उत्साह के साथ और भव्य तरीके से आयोजित किया जाता है। सरकारी और निजी दोनों ही अधिकारी बड़े पैमाने पर आयोजित होने वाले सभी कार्यक्रमों में भाग लेते हैं और बहुत रुचि दिखाते हैं।

To read this Article in English Click here

Forthcoming Festivals

Download our free mobile app

Get festival updates on your mobile & Explore and enjoy the panorama of Festivals/Fairs/Melas celebrated in India.