भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा से पितृ पक्ष श्राद्ध का प्रारंभ माना जाता है, जो आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तक चलता है। यह कुल 16 दिनों का होता है। इस वर्ष 02 सितंबर बुधवार को पूर्णिमा को ऋषि तर्पण और श्राद्ध होगा इसके बाद 3सितंबर शनिवार से पितृ पक्ष श्राद्ध आरंभ हो जाएगा जो 17 सितंबर गुरुवार तक चलेगा। पितृ पक्ष पितरों का याद करने का समय माना गया है। 


पितृ पक्ष श्राद्ध

पितृ पक्ष श्राद्ध तिथियां


  1. पूर्णिमा श्राद्ध - बुधवार - 02 सितंबर
  2. प्रतिपदा (एकम) श्राद्ध - गुरुवार - 03 सितंबर
  3. दूज श्राद्ध - शुक्रवार - 04 सितंबर
  4. तृतीया श्राद्ध- शनिवार - 05 सितंबर
  5. चतुर्थी श्राद्ध - शनिवार - 05 सितंबर
  6. चतुर्थी श्राद्ध - रविवार - 06 सिंतबर
  7. पंचमी श्राद्ध - सोमवार - 07 सितंबर
  8. षष्ठी श्राद्ध - मंगलवार - 08 सितंबर
  9. सप्तमी श्राद्ध - बुधवार - 09 सितंबर
  10. अष्टमी श्राद्ध - गुरुवार - 10 सितंबर
  11. नवमी श्राद्ध (मातृनवमी) - शुक्रवार - 11 सितंबर
  12. दशमी श्राद्ध - शनिवार -12 सितंबर
  13. एकादशी श्राद्ध - रविवार - 13 सितंबर
  14. द्वादशी श्राद्ध,संन्यासी, यति, वैष्णव जनों का श्राद्ध - सोमवार - 14 सितंबर
  15. त्रयोदशी श्राद्ध - मंगलवार - 15 सितंबर
  16. चतुर्दशी श्राद्ध - बुधवार - 16 सितंबर
  17. सर्वपितरअमावस्या श्राद्ध, अज्ञाततिथिपितृ श्राद्ध, पितृविसर्जन महालय समाप्ति - गुरुवार - 17 सितंबर



To Know more about Pitru Paksha in English Click here

Forthcoming Festivals

Download our free mobile app

Get festival updates on your mobile & Explore and enjoy the panorama of Festivals/Fairs/Melas celebrated in India.