धर्म के अनुसार त्यौहार – भारत एक धर्म अनेक

हिंदू त्यौहार | मुस्लिम त्यौहार | ईसाई त्यौहार | जैन त्यौहार

सिख त्यौहार सिंधी त्यौहार | बौद्ध त्यौहार पारसी त्यौहार

सिंधी धर्म

भारत में अन्य धर्मो की तरह सिंधी धर्म के लोग भी रहते हैं। सिंधी धर्म भारत और पाकिस्तान के बीच बसे क्षेत्र सिंध से आएं है। बंटावरे के बाद जो लोग भारत में आकर रहने लगे उन्हें सिंधी कहा जाता है। सिंधी धर्म के ईष्ट देवता भगावन झूलेलाल इन्हें सिन्धी हिन्दुओं के उपास्य देव हैं जिन्हें ‘इष्ट देव’ कहा जाता है। उनके उपासक उन्हें वरुण (जल देवता) का अवतार मानते हैं। वरुण देव को सागर के देवता, सत्य के रक्षक और दिव्य दृष्टि वाले देवता के रूप में सिंधी समाज भी पूजता है।उनका विश्वास है कि जल से सभी सुखों की प्राप्ति होती है और जल ही जीवन है। जल-ज्योति, वरुणावतार, झूलेलाल सिंधियों के ईष्ट देव हैं जिनके बागे दामन फैलाकर सिंधी यही मंगल कामना करते हैं कि सारे विश्व में सुख-शांति, अमन-चैन, कायम रहे और चारों दिशाओं में हरियाली और खुशहाली बने रहे। भगवान झूलेलाल के अवतरण दिवस को सिंधी समाज चेटीचंड के रूप में मनाता है। कुछ विद्वानों के अनुसार सिंध का शासक मिरखशाह अपनी प्रजा पर अत्याचार करने लगा था जिसके कारण सिंधी समाज ने 40 दिनों तक कठिन जप, तप और साधना की। तब सिंधु नदी में से एक बहुत बड़े नर मत्स्य पर बैठे हुए भगवान झूलेलाल प्रकट हुए और कहा मैं 40 दिन बाद जन्म लेकर मिरखशाह के अत्याचारों से प्रजा को मुक्ति दिलाउंगा। चैत्र माह की द्वितीया को एक बालक ने जन्म लिया जिसका नाम उडेरोलाल रखा गया। अपने चमत्कारों के कारण बाद में उन्हें झूलेलाल, लालसांई, के नाम से सिंधी समाज और ख्वाजा खिज्र जिन्दह पीर के नाम से मुसलमान भी पूजने लगे। सिंधी समाज के लोग भगवान झुलेलाल से ही संबधित त्यौहार मनाते हैं

सिंधी समाज से जुड़े पर्व

भगवान झुलेलाल

चेटी चंद पर्व

Forthcoming Festivals

Download our free mobile app

Get festival updates on your mobile & Explore and enjoy the panorama of Festivals/Fairs/Melas celebrated in India.