भारत में कई समाज सुधारकों ने जन्म लिया है। ऐसे समाज सुधारक जिन्होंने मनुष्यों को ना केवल सही ढंग से रहना सिखाया अपितु, जात-पात, अमीरी-गरीबी जैसे झूठे आंडबरों पर कड़ा प्रहार किया। भारत में यूं तो कई साधु महातमा आए और नए पाठ पढ़ा गए। लेकिन इन सभी साधु-सन्तों में जो उच्च नाम है वो है संत कबीर दास जी का। संत कबीर दास सिर्फ एक साधु नहीं थे अपितु वो पहले विद्रोही थे जिन्होंने समाज की कुरितियों के खिलाफ आवाज बुलंद की। संत कबीर जंयती महात्मा कबीर के जन्म दिवस के उपलक्ष्य में मनाई जाती है। संत कबीर दास जी के जन्म के संबध में कोई सटीक तिथि तो नहीं लेकिन फिर भी कबीर जी का जन्म विक्रम संवत 1455 ज्येष्ठ माह की पूर्णिमा को माना जाता है। कहा जाता है कि कबीर दास जी का जन्म बनारस के मुस्लिम जुलाहा दंपत्ति के घर हुआ था, किन्तुं कुछ लोगों को मानना है कि कबीर जी ने जन्म नहीं लिया था बल्कि वो प्रकट हुए थे इसलिए कबीर जंयती को उनका ‘प्रकट्य दिवस’ मानकर भी मनाया जाता है। संत कबीर जी को बहुत ही कम आयु में अध्यात्मिक ज्ञान हो गया था। उन्होंने कभी शिक्षा ग्रंहण नहीं कि लेकिन फिर भी वो चारों वेदों के ज्ञाता थे। उनमें ज्ञान का अपार भंडार था। कबीर जी के जीवन में सबसे बड़ा बदलाव तब आया जब 15 वीं शताब्दी में उनके हिन्दू गुरु रामानन्दा ने उनकी अद्भुद शक्ति देख उनके नाम के साथ दास जोड़ दिया। कबीर अब कबीर दास कहलाने लगे थे।

संत कबीर दास जंयती

कबीर जी का जन्म ऐसे समय पर हुआ था जब समाज, जात-पात, उंच-नीच जैसे कुरीतियों के बीच जी रहा था। कबीर दास जी को किसी एक श्रेणी में रखना मुश्लिक है वो कभी खुद को ब्राह्रमण कभी, संत, कभी वैष्णव, तो कभी खुद को अल्लाह का बच्चा बताते थे। वो कभी किसी एक धर्म के होकर नहीं रहे। उन्होंने हर धर्म का आदर किया, उसे अपनाया, सभी धर्मों को एक समझा। उन्होंने हमेशा एक उलझन वाली स्थित बनाई रखी जिससे उन्हें किसी भी एक धर्म का कहना मुश्किल था। उनकी कविताओं, पद्दो और छंदो में एक से अधिक भाषाओं का संगम रहा जिसे ‘खिचड़ी’ भी कहा जाता है। वो हर भाषा का प्रयोग कर लिखते थे उनका मानना था कि शिक्षा की कोई भाषा नहीं होती। उनके लिए ग्रंथ बहुत ही सुंदर और भावनाओं से भरे हुए होते थे। पेशेवर रुप से कबीर दास जी बुनाई का काम किया करते थे। वो ज्यादातर समय अपनी कुटीया में ही व्यतीत करते थे। उन्होंने हिन्दूं, मुस्लिमों पर इस तरह अपना जादू फैलाया था कि हर कोई उन्हें अपना समझता था। इस बार कबीर दास जंयती 24 जून को मनाई जाएगी।

संत कबीर दास से जुड़ी घटनाएं

संत कबीर दास अपने जीवन में इतने ज्यादा खुले व्यवहार और सोच के थे कि जब 1518 में अपने अंतिम समय में गोरखपुर के मगहर पहुचें तो उन्होंने अपना शरीर त्याग दिया। जिसके बाद उनके अंतिम संस्कार को लेकर हिन्दूं और मुस्लमानों में काफी विवाद उत्पन्न हो गया। जिस धर्म को एक करने के लिए उन्होंने अपना पूरा जीवन बिता दिया उन्हीं की मृत्यु के बाद उनके शरीर को लेकर विवाद होने लगा। हिन्दू कहने लगे कि वो कबीर दास जी का अंतिम संस्कार जला कर करेंगे और मुस्लिम कहने लगे कि वो दफना कर करेगें। ऐसा कहा जाता है कि विवाद होता देख उनका पार्थिव शरीर फूलों को बन गया जिसके बाद हिन्दू और मुस्लमानों ने उनके फूलों को आधा-आधा बांट लिया। आधे फूलों को हिन्दूओं ने गंगा में बहाया और मुस्लिमों ने जमीन में दफनाया था।

संत कबीर दास जंयती समारोह

कबीर साहब ने अपने जीवन में मनुष्यों को कई शिक्षाएं दी। उनका कहना था कि ‘बुरा जो देखन मैं चला बुरा ना मिला कोए, जो मन अपना देखिया मुझसे बुरा ना कोए’ अर्थात वो कहते थे कि दूसरों में कमियां, बुराईयां ढूंढने की जगह हमें स्वंय में बुराईयां ढूंढनी चाहिए क्योंकि सारी कुरितियां तो हमारे भीतर ही समाहित है। वहीं कबीर दास जी ने मूर्ति पूजा का भी बहुत विरोध किया था उनका कहना था कि ‘पत्थर पूजे हरि मिले तो मैं पूजूं पहाड़, या से वो चाकि भलि जो पिस खाय संसार’ यानि कि पत्थर को भगवान मानकर पूजा करने से यदि कुछ मिलता है तो मैं सीधा पहाड़ की पूजा करुंगा, इन सब से तो अच्छी मेरी चक्की है जिसमें अनाज पीसने से पेट भरेगा। कबीर दास अपने पूरे जीवन में विभिन्न घटनाओं से प्रभावित थे जिसने उन्हें और भी ज्यादा लोकप्रिय बना दिया था। अध्यात्मिक कुरितियों को तोड़ने के लिए उन्होंने किसी भी धर्म को ना अपनाना ही ठीक समझा। लोगों को विश्वास था कि कबीर दास जी के पास कुछ जादूई शक्तियां है जिसके परिणामस्वरुप उन्हें सिंकदर लोदी की अदालत में ले जाया गया। इस घटना के बाद 1495 में कबीर दास जी ने वाराणसी को हमेशा के लिए छोड़ दिया वो फिर कभी बनारस वापस नहीं आए। उन्होंने पूरे देश का दौरा किया। उन्हें कम शब्दों में अधिक कह जाने की कला में महारत हासिल थी। जिसका प्रभाव लोगों पर खूब पड़ता था। कबीर जी की कहना था कि भगवान ना काबा में है ना कैलाश में। वो मन के भीतर है यदि ईश्वर को ढूंढना है तो स्वंय के अंदर ढूंढो। संत कबीर दास जी की जंयती प्रतिवर्ष ज्येष्ठ मास की पूर्णमा को बड़े ही धूमधाम से मनाई जाती है। जगह-जगह उनकी शिक्षाओं से लोगों को प्रेरित किया जाता है। कबीर साहब जी द्वारा लिखित ग्रंथ ‘बीजक’ धार्मिक ग्रंथों में से एक है।

To read this Article in English Click here

Forthcoming Festivals

Download our free mobile app

Get festival updates on your mobile & Explore and enjoy the panorama of Festivals/Fairs/Melas celebrated in India.