सिंधु दर्शन महोत्सव

सिंधु दर्शन महोत्सव, जैसा कि नाम से पता चलता है, सिंधु नदी का एक उत्सव है, जिसे सिंधु महोत्सव भी कहा जाता है। भारत के विभिन्न कोनों से विभिन्न प्रकार की सांस्कृतिक मंडलों की मौजूदगी में इस त्योहार का आनंद लिया जाता है। गौरव के प्रतीक के रूप में सिंधु दर्शन महोत्सव का आयोजन 1997 से किया जा रहा है। इस साल भी यह महोत्सव अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मनाया जाएगा। उत्सव के दौरान सिंधु नदी की पूजा-अर्चना करने के साथ विभिन्न कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन होगा। इस वर्ष सिंधु दर्शन महोत्सव का आयोजन 14 जून से 16 जून के बीच होगा।


सिंधु दर्शन महोत्सव का इतिहास

सिंधु दर्शन महोत्सव का आरंभ देशभर के सिंधियों द्वारा 'सिंधु दर्शन अभियान', जिसे अब 'सिंधु महोत्सव' नाम से जाना जाता है के रुप में लेह कस्बे से 15 किमी दूर 'शे' नामक स्थान किया गया था। साल 1996 में पहली बार 'सिंधू दर्शन फेस्टिवल' का आयोजन किया गया था। तब से हर साल सिंधू नदी के तट पर इसका आयोजन होता है। यह उत्सव तीन दिनों तक चलता है। यह सिंधू नदी के तट पर सभ्यसता और संस्कृकति के अनोखे संगम को दर्शाता है। इस फेस्टिवल में कई तरह की सांस्कृसतिक‍ ग‍तिविधियों का आयोजन होता है। यही वजह है कि देश के कोने-कोने से लोग इस उत्स‍व का हिस्साक बनने के लिए पहुंचते हैं।

सिंधु दर्शन उत्सव के कार्यक्रम

तीन दिवसीय सिंधु दर्शन उत्स व में पूजा-पाठ के अलावा लद्दाख की परंपराओं और संस्कृवतियों को देखने का मौका मिलता है। इस पर्व में बौद्ध धर्म, सनातन, सिक्खस और अन्यक धर्म के लोग शामिल होते हैं और सिंधू की पूजा-अर्चना के साथ ही उसे धन्यंवाद देते हैं। जिन राज्यों से भारत की शक्तिशाली नदियाँ निकलती हैं, वहाँ की मंडियाँ मिट्टी के बर्तनों में उन सभी नदियों का पानी लाती हैं और उन्हें सिंधु नदी में विसर्जित करती हैं। जिससे पूरे भारत के पानी को ताकतवर सिंधु के साथ मिला दिया गया, जिस नदी ने भारत को अपना नाम दिया।
यह परिसर लद्दाख क्षेत्र और इसके लोगों की अनूठी संस्कृति को सामने लाने में सहायक होगा। परिसर में प्रस्तावित सुविधाओं में 500 लोगों के बैठने के लिए एक सभागार, एक ओपन एयर थियेटर, एक प्रदर्शनी गैलरी, एक संगीत कक्ष, एक छोटी सी लाइब्रेरी और एक स्मारिका की दुकान है जहाँ लद्दाख के हस्तशिल्प पर्यटक आने के लिए उपलब्ध होते हैं।

सिंधु दर्शन उत्सव का उद्देश्य

सिंधु दर्शन त्योहार का उद्देश्य सिंधु नदी को भारत में बहुआयामी सांस्कृतिक पहचान, सांप्रदायिक सद्भाव और शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व के प्रतीक के रूप में प्रस्तुत करना है। यह लेह और लद्दाख के खूबसूरत क्षेत्रों का दौरा करने के लिए देश और विदेशों के लोगों के लिए भी एक अवसर है। समारोह के हिस्से के रूप में, भारत के विभिन्न राज्यों के विभिन्न समूह देश की अन्य शक्तिशाली नदियों से मिट्टी के बर्तनों में पानी लाते हैं और सिंधु नदी में इन बर्तनों को विसर्जित करते हैं, जिससे नदी का पानी जमीन के अन्य जल के साथ मिल जाता है। सिंधु सांस्कृतिक केंद्र का उद्घाटन कुछ साल पहले और साथ ही लद्दाख स्वायत्त पहाड़ी विकास परिषद के नए कार्यालय परिसर में किया गया था।

सिंधु दर्शन महोत्सव का उद्देश्य सिंधु को भारत में बहुआयामी सांस्कृतिक पहचान, सांप्रदायिक सद्भाव और शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व के प्रतीक के रूप में प्रस्तुत करना है। इस क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा देने के साथ, यह त्योहार भारत के उन बहादुर सैनिकों को भी एक प्रतीकात्मक सलामी है जिन्होंने सियाचिन, कारगिल और अन्य स्थानों पर बहादुरी से लड़ाई लड़ी है। सिंधु दर्शन महोत्सव देश के दूर-दराज के कोने-कोने में रहने वालों के साथ एकता का बंधन बनाने में मदद करेगा और लद्दाख के खूबसूरत क्षेत्र की यात्रा करने का अवसर प्रदान करेगा। राष्ट्रीय एकता कार्यक्रम के रूप में, इस महोत्सव का स्वागत लद्दाख बौद्ध संघ, शिया मजिलिस, सुन्नी अंजुम, क्रिश्चियन मोरावियन चर्च, हिंदू ट्रस्ट और सिख गुरुद्वारा प्रबँधक समिति द्वारा किया गया।

To read this Article in English Click here
best teen patti casino websites in india

Forthcoming Festivals

Download our free mobile app

Get festival updates on your mobile & Explore and enjoy the panorama of Festivals/Fairs/Melas celebrated in India.