हरियाणा पर्यटन विभाग की ओर से अरावली की पहाडिय़ों में 1 से 17 फरवरी तक सूरजकुंड अंतराष्ट्रीय शिल्प मेले का आयोजन पिछले 30 सालों से किया जा रहा है। परंपरा, विरासत और संस्‍कृति के अद्भुत समन्‍वय के साथ-साथ माटी की महक सूरजकुंड हस्‍तशिल्‍प मेले की पहचान है। यह मेला हर साल हरियाणा सरकार द्वारा फरवरी के महीने में आयोजित किया जाता है। हर साल मेले का अलग थीम होता है और थीम के अनुसार ही मेला स्थल की साज-सज्जा की जाती है। दुनिया भर से लोग इस मेले को देखने आते हैं। सूरजकुण्ड हस्तशिल्प मेला एक ही स्थान पर भारतीय कला, संस्कृति और संगीत की समृद्ध परंपरा भी प्रस्‍तुत करने में अग्रणी रहा है।

सूरजकुंड क्राफ्ट मेले की शुरुआत

सूरजकुंड क्राफ्ट मेलामेले का उद्देश्य भारत के परपरागत रीति-रिवाजों को कायम रखना है और यह दर्शकों की सांस्कृतिक समझ को बढ़ाने में सहायक है। पूरा माहौल, प्रस्तुत संगीत और मेला मैदान में बिक रहे तरह-तरह के उत्पाद एक लघु भारत होने का एहसास कराते हैं। दोनों चौपालों पर होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम हर शाम नाट्यशाला की प्रस्तुतियां हमारी संस्कृति की मधुरता को प्रद्शित करती हैं।

सूरजकुण्ड हस्तशिल्प मेला वर्ष 1987 में शरू हुआ था लेकिन किसी एक राज्य / केन्द्र शासित प्रदेश को थीम राज्य के रूप में शामिल करने का सिलसिला वर्ष 1989 में शुरू हुआ था। 1989 के बाद से एक राज्य को हर साल मेले के थीम राज्य के रूप में प्रस्तुत किया जाता है। थीम राज्य को मेला मैदान में एक यादगार ढांचा / द्वार का निर्माण करना होता है।

सभी थीम राज्यों की प्रतिकृतियां सूरजकुण्ड मेले के मैदान में स्थापित की गई हैं, जिनसे भारत की विविधता परिलक्षित होती है। तीस एकड़ भूमि में लगभग 600 कुटीर बनाये जाते हैं। जिला प्रशासन की सहायता से सुरक्षा, अग्नि शमन और यातायात के व्यापक प्रबन्ध किये जातें हैं। एक स्थल पर फूड कोर्ट बनाया जाता है। जहां तरह-तरह के व्यंजन और अल्प आहार उपलब्ध होते हैं। इस मेले में थाईलैंड, तजाकिस्तान, उज्बेकिस्तान, किर्गिस्तान और कांगो समेत कई देशों के कलाकार अपनी कला का जौहर दिखाने आ चुके हैं और आते भी हैं।

सूरजकुंड का इतिहास

सूरजकुण्ड का इतिहास बहुत पुराना है। इस स्थान की सुन्दरता से आकर्षित होकर राजा सूरजपाल ने यहां अपना गढ़ बनाया और यहां पर एक सूर्य मंदिर तथा सूर्य सरोवर की स्थापना की। समय के साथ मंदिर अब नष्ट हो चुका है, लेकिन सूर्य सरोवर के अवशेष अभी भी नजर आते हैं। इसी सूर्य सरोवर के नाम से इस स्थान को सूरजकुण्ड नाम दिया गया। सूर्य सरोवर के स्थल को केन्द्र में रखकर चारों ओर कई पर्यटन सुविधाओं का विकास किया गया है। मंदिर के अवशेषों के पास होटल राजहंस बनाया गया है। सूर्य सरोवर और मेला मैदान के बीच नाट्यशाला है। सूरजकुण्ड दक्षिण दिल्ली से 8 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और दिल्ली के मुय स्थलों से यहां पहुंचने के लिये वाहन उपलब्ध हैं ।

मेले में दर्शकों के प्रवेश के लिये 50 रूपये का टिकट रखा जाता है। विकलांगों, भूतपूर्व सैनिकों, कार्यरत सैनिकों और वरिष्ठ नागरिकों के लिये टिकट में 50 प्रतिशत की छूट दी जाती है। स्वतंत्रता सेनानियों के लिये प्रवेश निशुल्क होता है। शनिवार, रविवार और राजपत्रित अवकाश के दिनों को छोड़ कर मेले में स्कूल के बच्चे यदि स्कूल के माध्यम से स्कूल यूनिफार्म में आते हैं। उनका प्रवेश निशुल्क रहता है। टिकटें आन-लाईन और ऑफ लाईन ई-टिकटिंग के जरिये भी उपलब्ध होती है।

सूरजकुण्ड हस्तशिल्प मेला सैंकड़ों शिल्पियों के लिये रोजी-रोटी कमाने का एक अच्छा विकल्प बन गया है। अपनी कला और शिल्प के राष्ट्रीय मंच के प्रदर्शन से अन्य रास्ते भी खुलते हैं। इसलिये वे अपनी कलाओं और शिल्पों के बेहतरीन नमूने लाते हैं और उन्हें मेले में प्रदर्शित करते हैं। मेले से नियार्तकों और खरीददारों को वार्षिक मिलन का भी अवसर मिलता है। यहां किसी विचौलिये के बिना शिल्पकार और निर्यातक आमने-सामने होते हैं। इससे शिल्पकारों को अपनी कला क्षेत्र का विस्तार करने और उसमें सुधार करने का सीधा मौका मिलता है।

सूरजकुंड मेले का वीडियो



To read this article in English click here

Forthcoming Festivals

Download our free mobile app

Get festival updates on your mobile & Explore and enjoy the panorama of Festivals/Fairs/Melas celebrated in India.