लोसरलोसर तिब्बती भाषा का शब्द है, जिसका अर्थ होता है - नया वर्ष ( लो = नया, सर = वर्ष ; युग) यानी लोसर मतलब नया साल। लोसर, तिब्बत, नेपाल और भुटान का सबसे महत्वपूर्ण पर्व है। लोसर अरुणाचल प्रदेश के तवांग डिस्ट्रिक्ट के मोनपा ( जो कि अरुणाचल प्रदेश के मुख्य ट्राइब्स मे से एक है) का सालाना उत्सव है। ये फेस्टिवल या तो फरवरी के अंत मे या मार्च के शुरू में पड़ता है|

मोनपा लोग लोसर की तैयारियां दिसंबर से ही शुरू कर देते है जैसे घर की साफ़ -सफाई करवाते है ,नए कपडे खरीदे जाते है,खाने पीने का सामान इकठ्ठा किया जाता है ,तरह-तरह के बिस्कुट और मीठी मठरी अलग-अलग आकार मे बनाई जाती है जो खाने मे बड़ी स्वादिष्ट होती है । ये फेस्टिवल तीन दिनों तक मनाया जाता है । पहले दिन लोग अपने घरवालों के साथ ही इसे मानते है और घर मे ही खाते पीते और विभिन्न तरह के खेल खेलते है । दूसरे दिन लोग एक -दूसरे के घर जाते है और नए साल की बधाई देते है । और तीसरे दिन प्रेयर फ्लॅग्स लगाए जाते है ।

लोसर फेस्टिवल में होने वालें कार्यक्रम

ईटानगर की एक मोनॅस्ट्री जो की सिद्धार्थन विहार मे है, वहां इस फेस्टिवल को मनाया जाता है जिसका आनंद वहाँ आने वाले हर एक लोग उठाते है| पिछले कई सालों से मनाए जाने वालें इस उत्सव में हर कई लोग मुख्य अतिथि बनते है| पिछलें कई वर्षों में कई सम्माननीय लोग आए जिसमे अरुणाचल के पॉवर मिनिस्टर मुख्य अतिथि थे औए ब.ब.सी.के मशहूर पत्रकार और लेखक मार्क टली स्पेशल गेस्ट थे जिन्हें देखने वालों की काफी भीड़ भी होती है।

मोनॅस्ट्री के बाहर भगवान् बुद्ध की प्रतिमा को एक पेड़ के नीचे स्थापित किया जाता है और यहां पर सबसे पहले बुद्ध की मूर्ति की सामने दिया जलाया जाता है, क्योंकि इस फेस्टिवल की शुरुआत सबसे पहले दिए जला कर की जाती है और उसके बाद प्रेयर फ्लॅग्स को बाँधा जाता है। जिस समय इन फ्लॅग्स को ऊपर किया जाता है, उस समय फ्लोर को हाथ मे लेकर जोर जोर से बोलते है "लहा सो लो,की की सो सो लहा ग्यल लो" ("मे द गॉड्स बी विक्टोरीयस" या "भगवान की जीत हो") इसके बाद तवांग डिस्ट्रिक्ट के विभिन्न नृत्य प्रस्तुत किये जाते है, जिनमे से कई नृत्य का विडियो हम कई जगह देख सकते है।

इनका संगीत बहुत ही मधुर होता है और डांस का स्टाइल बहुत ही स्मूद और सॉफ्ट होता है| उत्सव में जो आदमी नृत्य करते है और जो टोपी वे लोग पहनते है, वो याक के बाल से बनी होती है| ये मोनपा लोगों का एक पारंपरिक पहनावा होता है । वैसे तवांग मे स्त्री और पुरुष दोनों ही इस तरह की टोपी पहनते है।

डांस के कार्यक्रम के बीच मे ही एक खास तरह का बिस्कुट जिन्हें खापसे कहते है और राईस बीयर के साथ लोगो को सर्व की जाती है। उत्सव में इसीतरह के और भी पारंपरिक व्यंजन सर्व किया जाता है जिसमे चावल के साथ -साथ नूडल (चाऊ मीन और फ्राइड राईस )और लोकल ब्रेड जिसे मैदे से बनाया जाता है ,मोमो जिसे कुछ अलग तरह के चीज़ से बनाया जाता है सभी लोगों को परोसा जाता है|

लोसर मनाने की सदियों पुरानी परंपरा ने मौजूदा सामुदायिक बंधन को मजबूत बनाने और हिमालय क्षेत्र में बसे लद्धाख वासियों के जीवन में खुशियाँ लाना जारी रखा है| लोसर समाहरों फासपुन परिवार के एक समूह के देवी-देवताओं की पूजा के साथ शुरू होता है| कैलाश मानसरोवर की यात्रा में जाने वाले तीर्थयात्रियों को लामा जोमी गाँव के लोग शुभकामनायें देते है| वहाँ के बच्चे और युवा जानवरों के चमड़े से बनी जैकेट और उनके मुखौटें लगाकर पारंपरिक नृत्य करते है और घर-घर जाकर नये साल की समृद्धि की कामनायें करते है| इसतरह से यह उत्सव पूरा होता है|

लोसर फेस्टिवल का वीडियो



To read this article in English click here

Forthcoming Festivals

Download our free mobile app

Get festival updates on your mobile & Explore and enjoy the panorama of Festivals/Fairs/Melas celebrated in India.